पाबंदियों के बाद भी तेजी से पैर पसार रहा है ‘ओमीक्रॉन’- जानिए आईएमए ने सरकार से क्या की मांग

नई दिल्लीः  कोविड-19 के नए संक्रमण वायरस ‘ओमीक्रॉन’ ने पूरी दुनिया में एक बार फिर से तबाही मचा दी है।ओमीक्रॉन  के सामने आने के बाद से दुनिया के विभिन्न देश दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पाबंदियां लगा रहे हैं ताकि नए स्वरूप के प्रसार पर रोक लगाई जा सके। विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह पर ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, ईरान, जापान, थाईलैंड, अमेरिका, यूरोपीय संघ के देशों और ब्रिटेन सहित कई देशों ने दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पर पाबंदियां लगाई हैं।

तो भारत में COVID-19 की तीसरी बड़ी लहर देखी जा सकती है
वहीं भारत में भी ओमीक्रॉन के 23 मामले सामने आ चुके हैं जिसे देख सरकार भी अब सतर्कता बरतती हुई नज़र आ रही हैं। दरअसल,  इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने कहा है कि अगर नए कोरोनावायरस वेरिएंट Omicron से निपटने के लिए पर्याप्त उपाय नहीं किए गए तो भारत में COVID-19 की तीसरी बड़ी लहर देखी जा सकती है।

 IMA ने दावा किया कि ओमाइक्रोन संस्करण, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा ‘चिंता का संस्करण’ के रूप में लेबल किया गया है। यह उच्च प्रवेश क्षमता रखता है जो अधिक लोगों को प्रभावित करेगा।  हालांकि IMA  ने ओमीक्रॉन वैरिएंट के खतरे के बीच कहा है कि यात्रा पर प्रतिबंध की कोई जरूरत नहीं है। आईएमए ने सरकार से स्वास्थ्यकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और कमज़ोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों के लिए अतिरिक्त या बूस्टर डोज की मांग की है।  बकौल आईएमए, इंफ्रास्ट्रक्चर के फ्रंट पर भारत पूरी तरह तैयार है।