जलाशय की एक – एक बूंद पानी कीमती, बचाने के प्रयास

बिलासपुर। जलाशय में एक एक बूंद पानी कीमती है। इसके बचाने के लिए प्रयासरत हैं। उक्त बातेें जल संसाधन विभाग द्वारा मटियाडाड़ जलाशय निर्माण के भूमि पूजन विधायक डा. केके ध्रुव ने कही।
उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से दानीकुंडी में उक्त जलाशय के जीर्णोद्धार की मांग ग्रामीणों ने की थी। इसकी स्वीकृति मिल गई है। इसकी निर्माण एजेंसी जल संसाधन संभाग मरवाही है। निर्माण कार्य के भूमिपूजन अवसर पर मरवाही विधायक डा. ध्रुव ने कहा प्रदेश की सरकार किसानों की हितैषी है। लोगों की समस्याओं की जानकारी मिलते ही दूर की जा रही है। जिले में वर्षों से लोगों की मांग कांग्रेस सरकार की आने के बाद पूरी हो रही है। प्रदेश सरकार की योजनाओं से ग्रामीण क्षेत्र का विकास हो रहा है।
उन्होंने ग्रामीणें को इसके बारे में बताया। इस मौके पर मरवाही जनपद पंचायत के अध्यक्ष प्रताप सिंह मरावी ,सरपंच संघ के अध्यक्ष गजरूप सिंह ,जनपद पंचायत के उपाध्यक्ष अजय राय , कांग्रेस के जिला महामंत्री नारायण शर्मा एवं कांग्रेस के प्रदेश सचिव भोला नायक, कांग्रेस सेवा दल के प्रदेश सचिव रतन केशरवानी, सरपंच संजय सिंह, एसपी सिंह, डीपी यादव अनुरागी,बीपी वर्मा, केपी तिवारी, सुखदेव सिंह, वरुण कुमार, राजेश कुमार, समय लाल सहित बड़ी संख्या में ग्रामवासी उपस्थित रहे।
हाथी प्रभावितों से विधायक ने ली जानकारी
मरवाही वन मंडल के अंतर्गत जंगली हाथियों के कारण लोग परेशान हैं कोरबा और मध्यप्रदेश की ओर से हाथियों के आवाजाही के कारण खेतों को चरने से किसान को नुकासान पहुंचा है। बीते दस दिन पहले मरवाही क्षेत्र में आए 40 हाथियों के दल ने नाका ,मगुरदा गांव में कई किसानों की धान व अन्य फसल को चौपट कर दिया था। यहां तक की बाड़ी में लगे सब्जियों को भी तहस नहस कर दिया था। किसानों की इन्ही नुकसानों का आंकलन व निरीक्षण करने मरवाही विधायक डा. केके ध्रुव पहुंचे।
ज्ञात हो जंगल के कोरबा से लेकर जनकपुर सीधी से सटे होने के कारण हर दो महीने में हाथियों का आना जाना है। यही कारण है कि मरवाही क्षेत्र के सेमरदर्र्री, नाका, मगुरदा,कटरा,बेलझिरिया व उषाढ़ जैसे गांवों में इन हाथियों का आतंक के कारण लोग परेशान रहते हैं।