पाकिस्तान: सियालकोट में हुई माब लिंचिग की घटना को इमरान ने बताया ‘देश के लिए बेहद शर्म का दिन’

सियालकोट।‌ पाकिस्तान में माब लिंचिंग का एक बड़ा मामला सामने आया है। इस दौरान इस्लामी कट्टरपंथियों की भीड़ द्वारा एक श्रीलंकाई नागरिक की निर्मम हत्या कर दी गई है। इस घटना के बाद मामले से जुड़े करीब 100 संदिग्धों को हिरासत में ले लिया गया है। बता दें कि सियालकोट कारखाने में श्रमिकों और अन्य लोगों की भीड़ ने कारखाने के एक श्रीलंकाई प्रबंधक प्रियंता कुमारा को जला कर मार डाला था।

100 लोग लिए गए हिरासत में

पाकिस्तान के सियालकोट में हुए अमानवीय कार्य से इंसानियत भी शर्मशार हो गई है। श्रीलंका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सुगेश्वर गुणरत्न द्वारा पाकिस्तान के सियालकोट में एक श्रीलंकाई नागरिक की निर्मम हत्या के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए सरकार पर दबाव डाला गया, जिसके बाद इमरान सरकार हरकत आई। अब तक इस मामले से जुड़े 100 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने माब लिंचिंग से जुड़े इस मामले में एक टीम का गठन किया है, जो मामले में शामिल लोगों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर रही है। पंजाब सरकार के प्रवक्ता हसन खरवार ने पत्रकारों से हुई बातचीत में बताया कि मामले में शामिल अन्य लोगों को सीसीटीवी फुटेज के जरिए पहचान कर गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है।

इमरान खान ने की निंदा

देश में हुए अमानवीय कार्य के बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस मामले की कड़ी निंदा की है। पाकिस्तान समा टीवी के अनुसार, पीएम इमरान खान ने कहा, ‘शर्म का दिन है इस मामले से जुड़े सभी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा’

क्या है मोब लिंचिंग का यह पूरा मामला

यह पूरी घटना वजीराबाद रोड इलाके की है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, एक निजी कारखाने के श्रमिकों ने कारखाने के श्रीलंकाई निर्यात प्रबंधक पर हमला कर दिया। पहले उसकी पिटाई की गई और बाद में उसको आग के हवाले कर दिया गया। यह पूरी घटना इंटरनेट पर वायरल हुई, जिसमें बड़ी संख्या में पुरुष एक जगह खड़े हुए दिखाइ दिए। वीडियो में भीड़ में कुछ लोग ‘लब्बैक या रसूल अल्लाह’ का जोर- जोर से नारा लगाते हुए भी दिखाई दिए।