33 साल बाद इस जगह जाएंगे दिग्विजय, टेम सिंचाई परियोजना के अंतर्गत डूब प्रभावितों से करेंगे चर्चा

लटेरी: मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह शुक्रवार को विदिशा जिले की लटेरी के ग्राम वेरागढ़ में डूब प्रभावित लोगों से चर्चा करेंगे। दिग्विजय शुक्रवार को रात 9 बजे भोपाल से बैरागढ़ पहुंचेंगे और रात्रि विश्राम करेंगे। इसके बाद सुबह शनिवार को लटेरी के ग्राम मुंडेला में भी डूब प्रभावित लोगो से संवाद करेंगे। गौरतलब है कि मंत्रि-परिषद ने साल 2016 में टेम मध्यम सिंचाई परियोजना की 9990 हेक्टेयर रबी सिंचाई के लिए 383 करोड़ 15 लाख रुपए की स्वीकृति दी थी। इससे भोपाल जिले के बैरसिया विकासखंड और गुना जिले की मकसूदनगढ़ तहसील के 69 ग्राम लाभान्वित होना है।

विदिशा के 5 गांव डूब में
जल संसाधन विभाग के अनुसार टेम मध्यम परियोजना के तहत कुल 9 हजार 990 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो सकेगी। परियोजना के तहत भूमिगत पाइप लाइन बिछाकर उच्च दाब पर जल प्रवाहित कर सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली से भोपाल के दो एवं गुना जिले के 67 गांवों के 9990 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की जाएगी। बांध के डूब क्षेत्र में विदिशा जिले के 5 ग्राम प्रभावित हैं इनमें विदिशा का ग्राम दपकन पूर्ण रूप से डूब प्रभावित है। लटेरी तहसील के ग्राम दपकन में टेम मध्यम परियोजना के तहत बांध निर्माण कार्य के लिए निजि भूस्वामियों को बाजार दर की दोगुनी राशि व पुनर्वास पैकेज देने दिया जाना है साथ ही 18 वर्ष से ऊपर के व्यक्ति को निशुल्क प्लाट लटेरी के कोलुआ पठार क्षेत्र में दिए जाएंगे तथा आवास निर्माण के लिए 8-8 लाख की राशि तय है।

PunjabKesari, v

विदिशा की लटेरी तहसील के ग्राम दपकन में टेम मध्यम परियोजना तहत बांध निर्माण कार्य के लिए प्रचलित है। टेम मध्यम परियोजना के अंतर्गत बांध का निर्माण कार्य विदिशा जिले की लटेरी तहसील एवं भोपाल जिले की बैरसिया तहसील के कार्य प्रारंभ करने कार्यवाही प्रक्रियाधीन है। जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री के अनुसार टेम मध्यम परियोजना प्रस्ताव अनुसार कुल 9990 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई किया जाना प्रस्तावित है। सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली से भोपाल जिले के दो एवं गुना जिले के 67 मिलाकर कुल 69 ग्रामो के 9990 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई किया जाना लक्षित है। बांध का कुल डूब क्षेत्र 1265.98 हेक्टेयर है जिसमें से विदिशा जिले की निजी भूमि 452.257 हेक्टेयर, शासकीय भूमि 275.01 हेक्टेयर तथा 9.501 हेक्टेयर वन भूमि प्रभावित होगी एवं शेष भूमि विदिशा जिले की प्रभावित होगी। बांध के डूब क्षेत्र एवं निर्माण में विदिशा जिले के पांच ग्राम एवं भोपाल जिले के पांच ग्राम, कुल दस ग्राम प्रभावित है जिसमें से तीन ग्राम पूर्ण रूप से (जिसमें विदिशा का ग्राम दपकन) एवं सात ग्राम आंशिक रूप से डूब से (जिसमें विदिशा के ग्राम बैरागढ़, धीरगढ़ मुण्डेला एवं भीलाखेडी खुर्द) प्रभावित होंगे।

कुछ इस तरह रहेगा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय का बैरागढ़ दौरा…
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह शुक्रवार देर रात भोपाल से होते हुए लटेरी के ग्राम वेरागढ़ पहुंचेंगे इस दौरान वह प्रेमसिंह राजपूत के यहां रात्रि विश्राम करेंगे। वहीं रात के भोजन के दौरान दाल रोटी के साथ साथ गाय का दूध और गाय के ही दही का सेवन करेंगे। श्री सिंह 1998 के बाद आज पहली बार ग्राम वेरागढ़ पहुंच रहे हैं इस दौरान डूब प्रभावित लोगों से चर्चा करेंगे साथ ही दिग्विजय की नर्मदा यात्रा की फ़िल्म का प्रसारण भी गाँव बालो को दिखाया जाएगा। वहीं डूब प्रभावित लोगों का कहना है कि भूमि अधिग्रहण के नियमों के अनुसार मुआवजा नही दिया जा रहा है कई डूब प्रभावितों को गाइडलाइन के अनुसार भी मुआवजा वितरण नही किया जा रहा है इन्ही विषयों के लेकर दिग्विजय सिंह डूब प्रभावित लोगों से चर्चा करेंगे।