मोहल्ले में हुआ जलभराव तो निगम पंप से निकालेगा पानी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में मानसून का आगाज हो गया है। राजधानी में हल्की बारिश ने ही निगम के बड़े-बड़े दावे की पोल खोल दी है। निगम के लाख प्रयास के बाद भी तकरीबन एक दर्जन मोहल्ले जलभराव की चपेट में आ गए। जबकि निगम मानसून आने से पहले व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए कई करोड़ रुपये खर्च कर देता है, लेकिन बारिश का पानी इन तमाम व्यवस्थाओं पर पानी फेर देता है।

जलभराव होने वाले मोहल्ले में इस बार निगम पानी की निकासी के लिए पंप लगाने की तैयारी कर रहा है। अधिकारी का कहना है कि नालों और नालियों की सफाई का काम पूरा हो गया है, लेकिन बारिश होने पर निचली बस्तियों में पानी जमा हो जाता है, इसलिए इन इलाकों में पंप से पानी निकाला जाएगा। ज्ञात हो कि राजधानी के 70 वार्डों के कुल 82 बड़े नाले और नालियों की सफाई का काम निगम प्रशासन द्वारा पूरा कर लिया है, लेकिन उसके बाद मोहल्ले में जलभराव की समस्या खत्म नहीं हुई है।

इसकी वजह है कि राजधानी के ज्यादातर नालियों की संरचना ठीक नहीं है, तो वहीं कई मोहल्ले काफी नीचे हैं। इसके साथ ही नालियों पर किए गए अतिक्रमण के कारण बारिश के पानी का निकास सही ढंग से नहीं हो पाता है। जिसका नतीजा जल भराव के रूप में सामने आता है। बारिश में लोगों का अपने घरों से निकलना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में निगम द्वारा पंप से पानी खींचने की योजना काफी कारगर सिद्ध हो सकती है।

इन बस्तियों में नाले की नहीं होती सफाई, बना रहता है जलभराव

डीडी नगर, बंजारी नगर कॉलोनी, पुराना बस स्टैंड के पीछे बांसटाल, डीडी नगर सेक्टर 3, इंद्रावती कॉलोनी, प्रोफेसर कॉलोनी, एकात्म परिसर के सामने, मेडिकल कॉम्प्लेक्स के सामने, पुराना काफी हाउस, जय स्तंभ चौक, राजेंद्र नगर, शैलेंद्र नगर, टैगोर नगर, समता कालोनी मुख्य मार्ग, देवेंद्र नगर आवासीय परिसर, देवेंद्र नगर के कुछ सेक्टर, राजातालाब, जलविहार कॉलोनी, बीरभद्र नगर, जगन्नाथ नगर, त्रिमूर्ति नगर, अयोध्या नगर, शिवनगर, गणपति नगर, महादेव नगर आदि में हल्की सी बारिश में भी जलभराव की स्थिति निर्मित हो जाती है।

निगम में बाढ़ नियंत्रण प्रकोष्ठ का गठन

नगर निगम में बाढ़ नियंत्रण प्रकोष्ठ का गठन किया गया है। अग्निशमन कार्यालय टिकरापारा में बाढ़ नियंत्रण कक्ष बनाया गया है। यहां दूरभाष नंबर 0771-2272101,2274101 पर नागरिक बाढ़ की सूचना दे सकेंगे। कार्यपालन अभियंता फिल्टर प्लांट बीएल चंद्राकर को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। इनके मोबाइल नंबर 9301953236 पर भी सूचना दे सकते हैं। प्रकोष्ठ में आठ-आठ घंटे की तीन शिफ्ट में अधिकारियों, अभियंताओं, कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है

वर्जन

बारिश में कई मोहल्ले में पानी भर जाता है। इस बार जिन मोहल्लों में पानी भरेगा, वहां पंप से पानी निकाला जाएगा। सभी जोन कार्यालय को इसके लिए निर्देशित कर दिया गया है।

– विजय पांडेय, स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर नगर निगम

वर्जन

राजधानी में नालियों की संरचना की वजह से जलभराव नहीं रुक सकता है। इसका उदाहरण है कि पहली ही बारिश में वस्तु स्थिति सामने आ गई है।

– मीनल चौबे, नेता प्रतिपक्ष रायपुर नगर निगम

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.