लखनऊ सहित प्रदेश के सात शहरों में आज से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का कोरोना टीकाकरण

लखनऊ। कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ देश में बड़ा अभियान आज से शुरू हो गया है। देश के साथ प्रदेश में में 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग वाले लोगों के लिए आज से कोविड-19 टीकाकरण का बड़ा अभियान आज से शुरू हो रहा है। इसके इतर कुछ राज्य ने खुराकों की कमी का हवाला देकर तीसरे चरण के वैक्सीनेशन अभियान की तारीख को आगे बढ़ा दिया है, जबकि उत्तर प्रदेश में नौ हजार से अधिक एक्टिव केस वाले सात जिलों में आज से टीकाकरण होगा। इसके लिए लोगों ने ऑनलाइन पंजीकरण कराया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को लखनऊ के वीरांगना अवंतिबाई अस्पताल में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए मुफ्त कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण अभियान की शुरुआत की। 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों के लिए अब कोरोना टीकाकरण का बड़ा अभियान शुरू हो गया है। इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ शुक्रवार रात भर इस अभियान की मानिटरिंग करते रहे। कल ही देर शाम उन्होंने स्टेट प्लेन भेज कर हैदराबाद से वैक्सीन की एक बड़ी खेप मंगवाई।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सात जिलों के 85 केंद्रों पर टीका लगाने का काम किया जा रहा है। इन सात जिलों में अगले पांच दिनों तक लगातार वैक्सीनेशन का काम किया होगा। इसके बाद अन्य जनपदों में भी 45 वर्ष से अधिक तथा 18 वर्ष से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण होगा। हमें 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए भी वैक्सीन उपलब्ध हो गई है, हमने सीधे कंपनियों से वैक्सीन खरीदी है। प्रदेश में हम 5 करोड़ वैक्सीन का ग्लोबल टेंडर भी प्रारंभ कर चुके हैं।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने प्रदेश में आज से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों का वैक्सीनेशन शुरू किया है। पहले चरण में हमने उन 7 जनपदों को लिया है जिनमें पॉजिटिविटी रेट और सक्रिय मामले सर्वाधिक हैं। इन 7 जनपदों में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए अलग से 85 केंद्र बनाए हैं।

प्रदेश में आज से से 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों के कोरोना टीकाकरण की शुरुआत उन सात जिलों से हो गई है, जिनमें कोविड संक्रमण सर्वाधिक है। इनमें लखनऊ, कानपुर नगर, मेरठ, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखपुर और बरेली हैं। प्रदेश के अन्य जिलों में भी इसके बाद इस आयुवर्ग के लोगों के टीकाकरण की शुरुआत होगी। लखनऊ में सर्वाधिक एक्टिव केस हैं। इसके साथ ही कानपुर, मेरठ, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखपुर व बरेली में संक्रमण का खतरा काफी गहरा गया है। इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इन शहरों में टीकाकरण हो रहा है। इन सातों जिलों में कोरोना संक्रमण के 9000 से ज्यादा सक्रिय केस हैं। 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के टीकाकरण के साथ-साथ प्रदेश में 6000 से अधिक केंद्रों पर 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण यथावत जारी रहेगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के टीकाकरण को लेकरसभी आवश्यक कदम उठाने और कहीं कोई लापरवाही न बरतने के निर्देश दिए हैं। टीकाकरण केंद्रों पर कोविड प्रोटोकॉल का पूरा ध्यान रखा जाए। इस आयुवर्ग के टीकाकरण के मद्देनजर राज्य सरकार ने कोरोना वैक्सीन की एक करोड़ डोज का आर्डर दिया है। इसमें से 50 लाख डोज का आर्डर भारत बायोटेक और इतना ही सीरम को दिया गया है। शेष चार से पांच करोड़ डोज की आपूर्ति के लिए राज सरकार ग्लोबल टेंडर की तैयारी में जुटी है। इसके लिए केंद्र सरकार से मंजूरी ली गई है। प्रदेश में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के 9.28 करोड़ लोग हैं।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि इसके लिए जो सॉफ्टवेयर बना है उसे टेस्ट किया जाएगा। फिर अन्य जिलों में उसे विस्तारित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 45 वर्ष से अधिक उम्र के 1,01,49,009 लोगों को कोरोना टीके की पहली डोज लग चुकी है। वहीं 22,33,929 लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। इन्हें मिलाकर अब तक प्रदेश में कोरोना टीके की 1,23,82,938 डोज लगाई जा चुकी हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण के फैसले के तुरंत बाद ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक मई से प्रदेश में इसे अमली जामा पहनाने का निर्देश दिया था। 18 पार वालों के टीकाकरण के लिए टीके की आपूर्ति में आ रही समस्या को देखते हुए जहां कई राज्यों के कदम ठिठक गए हैं, वहीं योगी आदित्यनाथ सरकार अपने निर्णय पर अडिग है। टीके की आपूर्ति की समस्या के बावजूद उसने अधिक संक्रमण वाले सात जिलों से इस अभियान का आगाज करने का फैसला किया है। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि टीके की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। अब तो प्रदेश में जरूरत के मुताबिक सरकार निर्माता कंपनियों से टीका एयरलिफ्ट भी कराएगी।

केंद्र ने शुक्रवार को कहा कि कुछ राज्य जिन्होंने पहले ही उत्पादकों से समन्वय किया था वो निर्धारित तिथि पर अभियान शुरू करेंगे। उसने इस बात पर जोर दिया कि किसी भी नए अभियान को शुरू करने पर उसके गति पकडऩे में वक्त लगता है। टीकाकरण अभियान का यह तीसरा चरण भी समय के साथ लय में आ जाएगा। अब राज्य टीका उत्पादकों से खुराकों की खरीद के लिये समन्वय कर रहे हैं और केंद्र आवश्यक सहायता कर रहा है। टीकाकरण कुछ राज्यों में एक से शुरू होगा जिन्होंने पहले ही उत्पादकों से समन्वय किया है। किसी भी नयी कवायद या प्रक्रिया को गति पकडऩे में समय लगता है तथा धीरे-धीरे और केंद्र बढ़ जाएंगे। कुछ समय में यह कार्यक्रम स्थिर हो जाएगा।

उधर 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण पर दिल्ली, ओडिशा, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, और पंजाब समेत कुछ राज्यों का कहना है कि उनके पास पर्याप्त खुराक नहीं हैं जिससे वह 18 से 44 आयुवर्ग के लिए फिलहाल टीकाकरण अभियान शुरू कर नहीं कर पाएंगे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.