करतारपुर कॉरिडोरः PAK ने लिया बड़ा फैसला, खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला कमेटी से बाहर

नई दिल्लीः करतारपुर कॉरिडोर का काम जैसे जैसे आगे बढ़ता जा रहा है, वैसे वैसे भारत की राहें आसान होती जा रही हैं। भारत की बहुत सी शर्तों को पाकिस्तान बिना हिचकिचाहट मान रहा है और अब पाकिस्तानी सरकार ने खालिस्तानी समर्थक गोपाल चावला को पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से बाहर कर दिया है और उन्हें अपने पद से हटा दिया गया है। अब पाकिस्तान में पाकिस्तानी सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का पुर्नगठन किया गया है और इस कमेटी में गोपाल चावला का नाम शामिल नहीं है। इससे पहले पाकिस्तान और भारत के बीच 24 घंटे पहले ही बातचीत हुई थी, जिसके बाद भारत को ये बड़ी कामयाबी मिली है।

आपको बता दें कि पिछली बार भारत ने इसी मुद्दे को लेकर पाकिस्तान के साथ अपनी मीटिंग को रद्द कर दिया था। भारत नहीं चाहता था कि गोपाल चावला पाकिस्तानी गुरुद्वारा प्रबंधक सिख कमेटी का सदस्य रहे। भारत मानता है कि गोपाल चावला खालिस्तानी समर्थक है और पाकिस्तान में बैठे आतंक के सरगना हाफिज सईद का करीबी माना जाता है। इसी के तहत भारत के दबाव के कारण पाकिस्तान को ये बड़ा फैसला लेना पड़ा है।

गौरतलब है कि गोपाल सिंह चावला पाकिस्तान में बैठा भारत का दुश्मन है। पाकिस्तान में उसके ताल्लुकात आतंकी हाफिज सईद और जैश सरगना मसूद अजहर से है। पाकिस्तान आर्मी और आईएसआई (ISI) के अफसरों का वो खास कारिंदा है। पाकिस्तान में उसकी पहुंचा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पीएम इमरान खान तक उससे मुलाकात करते हैं। आईएसआई गोपाल सिंह चावला का इस्तेमाल पंजाब में खालिस्तानी और अलगाववादी भावनाओं को भड़काने के लिए करती रहती है. कुछ महीने पहले गोपाल सिंह चावला की तस्वीरें पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर बाजवा के साथ सामने आई थी।