बिहार में भारी बारिश से 11 की मौत, दिल्ली में गर्मी ने फिर दिखाए तेवर

नई दिल्ली। एक तरफ बिहार में बाढ़ और बारिश के चलते जनजीवन अस्तव्यस्त है, वहीं दिल्ली में बारिश का दौर रुकते ही उमस बढ़ गई है और गर्मी भी फिर से तेवर दिखाने लगी है। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी है। बाढ़ और बारिश से सबसे ज्यादा स्थिति उत्तर बिहार की खराब है। वहां लगातार पांचवें दिन शुक्रवार को भी भारी बारिश हुई। नदियों में उफान से निचले इलाके में बाढ़ का पानी घुस गया है।

बारिश के दौरान घर गिरने और पानी भरे गढ्डे में डूबने से 11 लोगों की मौत हो गई। तीन लोग जख्मी हो गए। सड़कों पर बाढ़ का पानी चढ़ने से और कई पुलिया ध्वस्त होने से आवागमन ठप हो गया। सीतामढ़ी-मुजफ्फरपुर और रक्सौल-बैरगनिया रेलखंड पर ट्रैक धंसने से ट्रेनों का परिचालन बाधित है। उधर नेपाल के पहाड़ों पर हो रही भारी बारिश के चलते भारत के तराई इलाकों की तरफ आने वाली नदियों का जलस्तर बढ़ गया है। बिहार और नेपाल में हो रही लगातार बारिश से बिहार से होकर बहने वाली नदियों में भी जलस्तर बढ़ गया है।

दिल्ली में गर्मी ने भी फिर दिखाए तेवर
दिल्ली में बारिश का दौर रुकते ही उमस बढ़ गई है और गर्मी भी फिर से तेवर दिखाने लगी है। बारिश रुकने की वजह से अधिकतम तापमान 39 से 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। न्यूनतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से भी ऊपर चल रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो से तीन दिन भी बिना बारिश के ही निकलने की संभावना है, जिससे गर्मी भी बढ़ेगी। हालांकि 16 से 19 जुलाई तक बारिश की संभावना है। इस बार भी बारिश के हल्के रहने की संभावना है।

पूर्वोत्तर में भारी बरसात से 10 लोगों की मौत, असम में बाढ़ से बिगड़े हालात
पूर्वोत्तर के राज्यों में बारिश और बाढ़ से अब तक 10 लोगों की मौत हो गई है। सबसे ज्यादा छह मौतें असम में हुई हैं। असम में बाढ़ से 21 जिले और 8.5 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। अधिकारियों ने बताया कि ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियां उफान पर हैं। राज्य के 33 में से 21 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। राहत और बचाव कार्य में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) को लगाया गया है।

बाढ़ प्रभावित इलाकों से लोगों को निकालकर विभिन्न शिविरों में रखा गया जा रहा है। बाढ़ से काजीरंगा नेशनल पार्क में भी पानी भर गया है। ब्रह्मपुत्र नदी जोरहाट और तेजपुर में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। बाढ़ का पानी सड़कों के ऊपर से बह रहा है, जिससे सड़क यातायात प्रभावित हुआ है। लंबडिंग-बदरपुर रेल मार्ग पर पानी भर जाने से रेल यातायात को रोक दिया गया है। बारिश के चलते हुए घटनाओं से मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश में भी दो-दो लोगों की मौत हो गई है।

हिमाचल में भारी बारिश की संभावना
हिमाचल प्रदेश में हो रही बरसात की वजह से छह सड़कें यातायात के लिए बंद पड़ी हैं। इनमें शिमला जोन में पांच सड़कें और कांगड़ा जोन के तहत एक सड़क ठप है। शिमला के सोलन सर्कल में एक, नाहन में तीन और कांगड़ा के डलहौजी में एक सड़क बंद पड़ी है। वहीं रिकांगपिओ में पोवारी से काजा जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग-पांच काशंग नाले के पास ल्हासा गिरने से दो दिन से बंद है।

शुक्रवार को शिमला, सोलन, मंडी और कांगड़ा में बारिश हुई। इससे इन जिलों में तापमान में कुछ गिरावट दर्ज की गई। हालांकि अन्य क्षेत्रों में उमस बढ़ी हुई है। यहां 18 जुलाई तक बारिश का क्रम जारी रहने और तापमान में गिरावट आने की संभावना है। चंबा, कांगड़ा, सोलन, शिमला और सिरमौर में 14 को भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की गई है। 5 को ऊना, कांगड़ा, शिमला और सोलन में भारी वर्षा के लिए अलर्ट है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.