त्राल मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी

श्रीनगर। शोपियां मुठभेड़ के बीच अवंतीपोरा त्राल के नौबुग इलाके में भी सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई है। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक घंटे के भीतर ही दो आतंकवादियों को मार गराया है। इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी है। मारे गए आतंकियों की अभी तक पहचान नहीं हो पाई है। परंतु सुरक्षाबलों के अनुसार ये दोनों आतंकी स्थानीय बताए जा रहे हैं।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि आज तड़के नौबुग में आतंकियों के देखे जाने की सूचना मिली। सूचना मिलते ही जम्मू-कश्मीर पुलिस के एसओजी के जवान, सेना और सीआरपीएफ की टीम इलाके में पहुंच गई। आतंकियों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया गया। वहीं एक मकान में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों को अपने नजदीक आते देख उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षाबलों ने उन्हें बार-बार आत्मसमर्पण करने के लिए कहा परंतु उन्होंने गोलीबारी जारी रखी।

एक घंटे के भीतर ही सुरक्षाबलों दो आतंकियों को मार गिराया। फिलहाल गोलीबारी बंद है। सुरक्षाबलों ने और आतंकियों की मौजूदगी को जांचने के लिए क्षेत्र में सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है।

आपकों बता दें कि कश्मीर संभाग के ही जिला शोपियां में गत वीरवार दोपहर से जारी मुठभेड़ अभी भी जारी है। सुरक्षाबलों ने अभी तक तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है जबकि अंसार गजवात-उल-हिंद एजीएच का कमांडर इम्तियाज अपने एक साथी के साथ मस्जिद में छिपा हुआ है। सुरक्षाबलों ने उन्हें आत्मसमर्पण करने को मनाने के लिए मस्जिद के इमाम और एक आतंकी के भाई को भी भेजा परंतु वे नहीं माने। सुबह होते ही मस्जिद में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलीबारी का सिलसिला शुरू कर दिया

पिछले 16 घंटों से भी अधिक समय से यहां गोलीबारी का सिलसिला जारी है। इस अभियान में तीन जवान भी घायल हुए हैं। हालांकि शोपियां मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों की अधिकारिक तौर पर पहचान नहीं हुई है, लेकिन संबधित सूत्रों की मानें तो इनके नाम इश्तियाक, जाहिद कोका और काशिफ मीर हैं। जाहिद कोका का भाई बुरहान कोका भी एजीएच का कमांडर रह चुका है। वह पिछले साल ही सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था। काशिफ मीर बीते माह ही आतंकी बना था। वह हिजबुल मुजाहिदीन के पोस्टर ब्वाय रहे आतंकी बुरहान का ममेरा भाई था।

काशिफ के दो बड़े भाई भी आतंकी थे। इनमें से एक आदिल था, जिसने दक्षिण कश्मीर में करीब सात साल पहले हिजबुल मुजाहिदीन का नेटवर्क मजबूत बनाया था। उसने ही जाकिर मूसा और बुरहान वानी को तैयार किया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.