शिकार के मामले में फरार आरोपित के साथी ने वन विभाग के अफसर को धमकाया, प्रकरण दर्ज

भोपाल। वन्‍य प्राणी के शिकार के मामले में फरार चल रहे एक आरोपित को बचाने के लिए उसके साथी ने वन विभाग के उडऩदस्ता प्रभारी राजकरण चतुर्वेदी को मोबाइल पर जान से मारने की धमकी दी। उडऩदस्ता प्रभारी ने मामले में टीटी नगर थाने में शिकायती आवेदन दिया था, जिस पर रविवार देर रात मामला दर्ज कर लिया गया है।

टीटी नगर पुलिस के अनुसार भोपाल वन मंडल के अंतर्गत 3-4 फरवरी की दरम्यानी रात सूचना मिली थी कि सागर की तरफ से आ रही एक कार में 4 से ज्यादा लोग आ रहे हैं। गाड़ी में काले हिरन, चीतल, सांभर व नीलगाय जैसे किसी वन्‍यप्राणी का मांस और दो बंदूकें भी हैं। वन अमले ने जब कार को रोकने की कोशिश की तो आरोपितों ने लाठी-डंडों से उन पर प्राणघातक हमला कर दिया था। बाद में फरार आरोपित फराज के भाई सिराज को एक वन्यप्राणी की खाल के साथ उसके घर से गिरफ्तार कर लिया गया था। मामले में कुल 8 आरोपित हैं, जिसमें पांच गिरफ्तार हो चुके हैं। तीन आरोपित अरविंद यादव, जहीर और सोहेल अब तक फरार हैं।

फरार अरविंद यादव का नाम आरोपितों की सूची में से हटवाने के लिए उडऩदस्ता प्रभारी राजकरण चतुर्वेदी पर दबाव बनाया जा रहा है। रविवार को जामुनढाना राहतगढ़ सागर के अजब सिंह का उड़नदस्ता प्रभारी के पास मोबाइल पर फोन आया, जिसमें अरविंद यादव का नाम ना हटाने पर उनकी वर्दी उतरवाने व जान से मारने की धमकी दी गई। चतुर्वेदी ने मामले की टीटी नगर थाने में शिकायत की थी, जिस पर प्रकरण कायमी की कार्रवाई रविवार देर रात की गई।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.