Shabana Azmi बोलीं- धर्मनिरपेक्षता की बात करो तो कहा जाता है राष्ट्रविरोधी

इंदौर। हमें बचपन से गंगा जमुनी तहजीब सिखाई गई है और इसी माहौल में पले-बढ़े हैं, लेकिन वर्तमान में मुल्क में जो राष्ट्रविरोधी माहौल बना हुआ है, वह खतरनाक हो सकता है। आजकल देश में ऐसा दौर चल रहा है कि धर्मनिरपेक्षता की बात करने वाले को राष्ट्रविरोधी करार दिया जाता है। वैसे भी हम क्या हैं और क्या करते हैं, इसके लिए किसी सरकार के प्रमाण-पत्र की जरूरत नहीं है।

यह बात अभिनेत्री और समाजसेवी शबाना आजमी ने कही। वे शनिवार को आनंद मोहन माथुर चेरिटेबल ट्रस्ट के कार्यक्रम में शामिल हुई थीं। उन्हें संस्था द्वारा कुंती माथुर सम्मान से सम्मानित किया गया। शबाना ने कहा कि हिंदुस्तान 18वीं सदी से लेकर 21वीं सदी एक साथ जी रहा है। हमारा समाज तब तक सभ्य नहीं हो सकता, जब तक महिलाओं को इज्जत और मौके नहीं दिए जाएंगे। महिला सब कुछ कर सकती है, बस उसे मौका मिलना चाहिए। वह सिर्फ मर्दों के बराबर नहीं, बल्कि उनसे आगे निकलने का भी हौसला रखती है। हमें किसी भी कीमत पर घुटने नहीं टेकना है।

अगर हमारे मुल्क में कुछ ठीक नहीं चल रहा है तो उसे हमें ही बताना होगा। इससे ही सुधार होगा। इसे राष्ट्र विरोधी कहना ठीक नहीं है। कार्यक्रम में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व पत्नी अमृता सिंह ने शबाना को चौथा कुंती सम्मान भेंट किया। आनंद मोहन माथुर ने कहा कि ये हिंदुस्तान वैसा बिल्कुल नहीं है, जैसा हम चाहते थे। गांधीजी, नेहरूजी, सरदार पटेल, मौलाना आजाद ने जो देश के लिए बलिदान दिया, वैसा देश के लिए कोई नहीं कर रहा। डॉ.आरके माथुर, डॉ. पूनम माथुर, सरोज कुमार, शफी शेख, जयप्रकाश चौकसे ने अतिथियों का स्वागत किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.