रूस के बयान पर भारत ने कहा- हमारी विदेश नीति स्वतंत्र

नई दिल्ली। भारत ने शुक्रवार को जोर देकर कहा कि उसने हमेशा अपने राष्ट्रीय हितों के आधार पर स्वतंत्र विदेश नीति का पालन किया है। हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए उसका विजन किसी देश के खिलाफ नहीं है।

भारत का यह बयान रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के दो दिन पूर्व दिए बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि पश्चिमी ताकतें अपनी हिंद-प्रशांत रणनीति को आगे बढ़ाने के लिए भारत को चीन विरोधी गतिविधियों में फंसाकर आक्रामक एवं कुटिल नीति का पालन कर रही हैं। लावरोव के इस बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि भारत स्वतंत्र, खुले और समावेशी हिंद प्रशांत क्षेत्र के पक्ष में है और रूस के साथ उसके संबंधों का आधार मेरिट है

भारत के साथ संबंधों को अमेरिका में दोनों दलों का समर्थन

अमेरिका के साथ संबंधों पर अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि भारत के साथ रणनीति साझेदारी को मजबूत करने और वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए साथ मिलकर काम करने को लेकर अमेरिका में दोनों दलों का सतत और मजबूत समर्थन है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.