शिवहर में जनसंपर्क के लिए निकले प्रत्याशी श्रीनारायण सिंह सहित दो की हत्या, चुनाव पर इसका कोई असर नहीं

शिवहर। पुरनहिया थाना क्षेत्र के हथसार में शनिवार शाम जनसंपर्क के दौरान बाइक सवार दो बदमाशों ने शिवहर विस क्षेत्र से जनता दल राष्ट्रवादी के प्रत्याशी सह पूर्व राजद नेता श्रीनारायण सिंह और उनके समर्थक हथसार निवासी राजेंद्र महतो के पुत्र संतोष कुमार (30) की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना में हथसार गांव के ही श्याम प्रसाद के पुत्र आलोक रंजन (28) गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उन्हें इलाज के लिए सीतामढ़ी शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां हालत गंभीर है। घटना के बाद इलाके में आक्रोश है। चर्चा है कि श्रीनारायण सिंह की हत्या की साजिश सीतामढ़ी जेल से रची गई थी। इसी वजह से हमला किया गया। हालांकि, एसपी संतोष कुमार ने कहा कि जांच जारी है। दोषी बख्शे नहीं जाएंगे। तिरहुत प्रक्षेत्र के आइजी गणेश कुमार भी सीतामढ़ी पहुंच गए थे। इस तरह के कयास लगाए जा रहे थे कि चुनाव को फिलहाल स्थगित कर दिया जाए। लेकिन, डीएम ने चुनाव प्रक्रिया जारी रखने को कहा है

बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

लोगों के मुताबिक, हथसार गांव में बदमाशों ने प्रत्याशी के काफिले पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। इसमें श्रीनारायण सिंह और उनके दो समर्थकों को गोली लगी। श्रीनारायण सिंह को तीन गोलियां लगीं और मौके पर मौत हो गई। गोली लगने से उनके दो समर्थक भी जख्मी हो गए। तीनों को शिवहर सदर अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकों ने श्रीनारायण सिंह को मृत घोषित कर दिया। वहीं, संतोष और आलोक को सीतामढ़ी रेफर कर दिया। लेकिन, संतोष ने रास्ते में दम तोड़ दिया। आलोक को सीतामढ़ी शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सीतामढ़ी और शिवहर की पुलिस अस्पताल पहुंची। बताया गया कि श्रीनारायण सिंह की मौत के बाद लोगों का आक्रोश देख पुलिस ने शव को सीतामढ़ी भेज दिया। जहां चिकित्सक डॉ. वरुण कुमार ने बताया कि श्रीनारायण सिंह की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

लोगों ने बदमाशों को पीटा

घटना को अंजाम देकर भाग रहे दो बदमाशों को लोगों ने पिस्टल के साथ दबोचा और जमकर पिटाई की। इस बीच वहां पहुंची पुरनहिया पुलिस ने दोनों को शिवहर सदर अस्पताल में भर्ती कराया। दोनों का इलाज जारी था। बेहोशी के कारण पहचान नहीं हो सकी थी।

कई मामलों के आरोपित थे श्रीनारायण

शिवहर जिले के डुमरी कटसरी प्रखंड के नयागांव निवासी श्रीनारायण सिंह पूर्व में जिला पार्षद और मुखिया रह चुके थे। राजद के जिला उपाध्यक्ष थे। टिकट नहीं मिलने पर पद और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद जनता दल राष्ट्रवादी के टिकट पर मैदान में थे। पूर्व में अपराध की दुनिया से संबंध रहा। शिवहर में हत्या व आम्र्स एक्ट के छह मामले दर्ज थे। मुजफ्फरपुर के बैरिया में चर्चित कुंदन सिंह हत्याकांड में भी आरोपित थे। हालांकि, नामांकन के दौरान दिए गए शपथ पत्र में उन्होंने शिवहर में आधा दर्जन मामलों की जानकारी दी थी।

मतदान तय तिथि और तय समय पर ही

शिवहर डीएम अवनीश कुमार सिंह ने बताया कि प्रत्याशी श्रीनारायण सिंह की हत्या के कारण तीन नवंबर को होने वाले मतदान पर कोई असर नही पड़ेगा। मतदान तय तिथि और तय समय पर ही होगा।