चंद्रबाबू नायडू के बंगले ‘प्रजा वेदिका’ पर चली JCB, यही लगता था जनता दरबार

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू अमरावती स्थित आवास प्रजा वेदिका को देर रात तोड़ दिया गया है। चंद्रबाबू नायडू विजयवाड़ा के गन्नावरम एयरपोर्ट पर पहुंचे हैं। एयरपोर्ट पर टीडीपी के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में पहुंचे। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने ‘प्रजा वेदिका’ बिल्डिंग को तोड़ने का आदेश दिया था, जिसके विरोद में वहां बड़ी संख्या उनके समर्थक पहुंचे हैं।

PunjabKesari
पुलिस की मौजूदगी में इसको तोड़ने का काम भी शुरू हो चुका है। बता दें कि चंद्रबाबू नायडू लंबी पारवारिक छुट्टी बिताकर वापस लौटे हैं, अब वे सीधे प्रजा वेदिका पहुंचेंगे। आंध्र प्रदेश की सत्ता से विदाई के बाद चंद्रबाबू नायडू को मिल रही सहूलियतें कम होती जा रही हैं। तेलगु देशम पार्टी (टीडीपी) अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा में भी कटौती की गई है। बेटे नारा लोकेश को मिली जेड श्रेणी की सुरक्षा को हटा लिया गया है। पूर्व मंत्री नारा लोकेश की सुरक्षा को 5+5 से घटाकर 2+2 कर दिया गया है।

पिछले हफ्ते ही आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने ‘प्रजा वेदिका’ बिल्डिंग ध्वस्त करने का आदेश दिया था। बिल्डिंग को तोड़ने का काम मंगलवार से ही शुरू हो चुका है।  बीते दिनों चंद्रबाबू नायडू ने जगनमोहन रेड्डी को चिट्ठी लिखकर ‘प्रजा वेदिका’ को नेता प्रतिपक्ष का सरकारी आवास घोषित करने की मांग की थी, लेकिन उनकी मांग ठुकरा दी गई।

‘प्रजा वेदिका ’का निर्माण पिछली तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) सरकार द्वारा एन चंद्रबाबू नायडू के आधिकारिक निवास के बगल में किया गया था. इसका उपयोग सरकार और पार्टी गतिविधियों दोनों के लिए किया जा रहा था। हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में टीडीपी की हार के बाद, चंद्रबाबू नायडू ने 5 जून को नए मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी को पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने विपक्ष के नेता की हैसियत से उन्हें आवास आवंटित करने का अनुरोध किया था।