रेप के आरोपी BSP सांसद ने किया सरेंडर, चुनाव प्रचार के समय हुए थे फरार

वाराणसीः लोकसभा चुनाव के दौरान लापता हुए बीएसपी सांसद लापता हो गए थे।  रेप के आरोपी बीएसपी सांसद अतुल राय ने वाराणसी की एक अदालत में शनिवार को आत्‍मसमर्पण कर दिया। अदालत ने उन्‍हें 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया है। बता दें कि अतुल राय लोकसभा चुनाव प्रचार के समय से ही लापता चल रहे थे। उन्‍होंने अंतरिम जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी लेकिन उन्‍हें निराशा हाथ लगी। अंतत: उन्‍हें अब आत्‍मसमर्पण करना पड़ा है। पिछले दिनों संसद में शपथ ग्रहण के दौरान भी अतुल राय उपस्थित नहीं थे जो चर्चा का विषय बना रहा। बताया जा रहा है कि अतुल राय ने वाराणसी के जेएम प्रथम की अदालत में समर्पण किया। अतुल राय ने घोसी में चुनाव प्रचार नहीं किया था लेकिन एक बड़े अंतर से उन्‍होंने जीत हासिल की थी।

राय मतदान और रिजल्‍ट आने के दिन भी गायब रहे थे। इससे पहले मई में उनके खिलाफ वाराणसी की पूर्व छात्रा ने रेप का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था। वह 24 मई तक फेसबुक पर सक्रिय थे। उन्‍होंने अपने अंतिम विडियो में लोकसभा चुनाव में जीत दिलाने के लिए जनता को धन्‍यवाद दिया था। राय ने मतदाताओं से वादा किया था कि वह जल्‍द ही उनके बीच आएंगे। उन्‍होंने कहा था, ‘जनता की अदालत किसी अन्‍य अदालत से बड़ी होती है और जनता की अदालत ने मुझे निर्दोष करार दिया है। मैं जल्‍द ही कानूनी कार्यवाही से मुक्‍त हो जाऊंगा।’ अतुल राय के आत्‍मसमर्पण नहीं करने पर बीजेपी ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती पर हमला बोला था। अतुल राय के आत्‍मसमर्पण नहीं करने पर पुलिस ने उनकी संपत्तियों को अटैच करना शुरू कर दिया था।

बता दें कि एक उत्तर प्रदेश की घोसी सीट से गठबंधन से बीएसपी के फरार उम्मीदवार अतुल राय अपने प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के हरिनारायण से एक लाख 22 हजार वोटों जीते थे। अतुल राय पर रेप का आरोप है। यूपी कॉलेज की एक पूर्व छात्रा ने उनपर केस दर्ज करवाया था। इसके बाद न्यायिक मैजिस्ट्रेट ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश दे दिए। वह जमानत के लिए हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक गए लेकिन जमानत नहीं मिली। अतुल राय के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी हुआ है और देश भर के एयरपोर्ट पर अलर्ट जारी किया गया है।  छात्रा का आरोप है कि अतुल राय ने उसे पत्नी से मिलाने के लिए आवास पर बुलाया था और इसके बाद मौके का फायदा उठाकर दुष्कर्म किया। पीड़िता का आरोप है कि अतुल ने उसे जान से मारने की धमकी भी दी। हालांकि अतुल राय का कहना है कि युवती उनके ऑफिस आकर चुनाव लड़ने के नाम पर चंदा लेती थी और चुनाव में प्रत्याशी बनने के बाद ब्लैकमेल करने का प्रयास किया।