सुरक्षाबलों पर IED हमले का खतरा टला, एजेंसियों ने पहले ही कर दिया भंडाफोड़

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शोपियां जिले में हिजबुल मुजाहिद्दीन के 5 सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार कर सुरक्षा बलों पर आई.ई.डी. हमले की एक साजिश नाकाम करने का दावा किया है। एक पुलिस अधिकारी ने बुधवार को बताया कि कुछ लोगों द्वारा शक्तिशाली विस्फोटक उपकरण (आई.ई.डी.) बनाए जाने की खुफिया सूचना पर मंगलवार देर रात शोपियां के जैनपोरा में कई स्थानों पर छापे मारे गए। इस दौरान पुलिस ने आतंकवादियों के 5 साथियों को गिरफ्तार किया। उनकी पहचान अवनीरा निवासी अकीब नजीर राथर, दुरपुरा निवासी अमीर मजीद वानी, शिरमाल निवासी समीर अहमद भट, मोलू चित्रागम के निवासी फैसल फारुक अहंगर और मोलू डंगरपुरा निवासी रईस अहमद गनाई के रूप में की गई है।

अधिकारी ने बताया कि पूछताछ के दौरान गिरफ्तार हिजबुल सदस्यों ने बताया कि संगठन के आतंकवादी पुलिस और सुरक्षा बलों पर आई.ई.डी. हमले की साजिश रच रहे थे। उनकी जानकारी के आधार पर उनके पास से एक शक्तिशाली आई.ई.जी. बरामद किया गया। पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

बारामूला और बड़गाम में आतंकी हमले का इनपुट

कश्मीर घाटी में सिलसिलेवार आतंकी हमलों को देखते हुए खुफिया एजैंसियों ने सुरक्षा बलों के काफिलों पर हमलों को लेकर एक बार फिर अलर्ट जारी किया है। खुफिया एजैंसियों का कहना है कि आतंकी सुरक्षा बलों के काफिले पर हमले की फिराक में हैं। आतंकी बारामूला या फिर बडगाम जिले में सुरक्षा बलों के काफिले को निशाना बना सकते हैं। इस इनपुट के बाद समूची घाटी विशेषकर उत्तरी कश्मीर के बारामूला और बडगाम के लिए सुरक्षा बलों को अलर्ट पर रखा गया है।