पूर्व कॉन्स्टेबल ने गृहमंत्री से फोन पर लगाई गुहार, कहा – अधिकारियों की पत्नियां कराती हैं घर के काम

नीमच: प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन को मोबाइल फोन पर कॉल कर एक व्यक्ति ने खुद को नीमच निवासी पूर्व आरक्षक नंदकुमार चाैहान बताते हुए पुलिस अधिकारियों की गंभीर शिकायतें की हैं। चौहान ने गृहमंत्री को बताया कि आईपीएस अफसरों को 4 से 5 कर्मचारियों की पात्रता रहती है। लेकिन वर्तमान में उनके बंगलों पर 20-20 लोग काम करते हैं। अफसर तो दूर उनकी पत्नी और बच्चे भी कर्मचारियों पर हुकुम चलाते हैं। फोन पर हुई बातचीत के अंश का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है।

इस वायरल आडियो में आरक्षक शिकायतकर्ता ने कहा कि वर्तमान में 400 से 500 आईपीएस हैं। उनको सरकार से सुविधा मिली है कि बंगले पर 4 से 5 कर्मचारियों को लगा सकते हैं लेकिन उनके बंगले पर 20-20 लोग काम कर रहे हैं। यह स्थिति पूरे प्रदेश में है। पूर्व कॉन्स्टेबल ने आगे कहा कि आईपीएस अफसरों की प्रताड़ना से तंग आकर उसने पुलिस की नौकरी छोड़ दी। बंगले पर पुलिसकर्मियों को प्रताड़ित किया जाता है। उनकी पत्नियां पुलिसकर्मियों से घरेलू काम कराती हैं।

उन्होंने आगे कहा कि फील्ड में काम करने वाले अधिकारी बंगलों पर कार्य कर रहे हैं। इस कारण लॉ एंड ऑर्डर तो प्रभावित होगा ही। आपके गृहमंत्री बनने के बाद भी कुछ नहीं हुआ। पूर्व आरक्षक की शिकायत पर गृहमंत्री ने कार्रवाई का आश्वासन दिया तथा कहा कि इस मामले से निपटने के लिए कल बैठक बुलाई है। गृहमंत्री बाला बच्चन ने इस ऑडियो की पुष्टि की है। बाला ने कहा कि मैंने पूर्व कॉन्स्टेबल नंदकिशोर चौहान की पूरी पीड़ा को सुना। उसके द्वारा बताई गई बातों को हम संज्ञान में लेंगे और कसावट भी लाएंगे। हम कल उज्जैन में मीटिंग ले रहे हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.