मिर्ची बाबा को जल समाधि की नहीं मिली परमिशन, भोपाल में नजरबंद

भोपाल: दिग्विजय सिंह की हार पर जलसमाधि की भविष्यवाणी करने वाले मिर्ची बाबा यानी स्वामी वैराग्यनंद को गिरी भोपाल में नजर बंद कर दिए गए हैं। उन्होंने रविवार को 2 बजकर 11 मिनट पर जलसमाधि की घोषणा की थी जिसके लिए कलेक्टर से आज्ञा भी मांगी थी। लेकिन आज्ञा न मिलने के कारण उन्होंने जलसमाधि नहीं ली।

जानकारी के अनुसार, स्वामी वैराग्यनंद सुबह 7 बजे भोपाल पहुंच गए थे। जिला प्रशासन ने उन्हें होटल में ही नजरबंद कर दिया था। बाबा की सुरक्षा के लिए प्रशासन ने एक डीएसपी समेत करीब दस पुलिस कर्मियों को उनके साथ तैनात किया। बाबा इस समय भेल इलाके में एक होटल में रुके हुए हैं।

मिर्ची बाबा 2 बजकर 56 मिनट पर पत्रकारों के सामने आए। वहां पत्रकारों से बातचीत दौरान उन्होंने कहा कि, मैं आज भी अपने संकल्प पर दृढ़ हूं। संविधान को मानते हुए मैंने प्रशासन से इजाजत नहीं मिलने के कारण समाधि नहीं ली। दिग्विजय के हार पर बोलते हुए कहा कि मेरी भविष्यवाणी गलत हुई है। तो बस इतना कहूंगा कि समाज का जो भी निर्णय सजा देने का है वो मान्य है। लाभ- हानि, जीवन-मरण, यश-अपयश सब ईश्वर के हाथ में है।

पुनः समाधि लेने संबंधी पूछे जाने पर कहा कि आज के मुहूर्त जैसा भविष्य में अगर सकल पंच की तरफ से संकल्प के लिए मुहूर्त निकलेगा तो फिर प्रशासन से परमिशन मांगूंगा। उन्होंने आगे कहा कि यदि भारत वर्ष की जनता को मेरे शब्द से ठेस पहुंची है तो मैं क्षमाप्रार्थी हूं। मैने कोई पाप नहीं किया, दुष्कर्म नहीं किया, कोई दुराचार नहीं किया। मैने तो सिर्फ बस भविष्यवाणी की थी। मैंने देश के साथ या मां बहनों के साथ या गौ माता के साथ कुछ गलत नहीं किया। जिससे संत समाज को खतरा या ठेस पहुंचे।