देश में आज हाहाकार, AIIMS सहित 18 बड़े अस्पतालों में हड़ताल

नई दिल्लीः पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ हुई मारपीट और गाली गलौच का असर दिल्ली तक देखने को मिल रहा है। पश्चिम बंगाल में जहां डॉक्टरों ने उच्च व्यापी हड़ताल की है और इस्तीफे दिए जा रहे हैं, वहीं दिल्ली में भी आज 14 बड़े अस्पतालों समेत 18 अस्पतालों के डॉक्टरों ने आज शनिवार को हड़ताल का ऐलान किया है। इस देशव्यापी हड़ताल में दिल्ली में करीब 10 हजार डॉक्टर शामिल होंगे। डॉक्टरों  की इतने बड़े स्तर पर हड़ताल के कारण आम जन जीवन प्रबावित होने की संभावना है। इससे मरीजों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के बैनर तले इन सभी अस्पतालों के डॉक्टरों ने हड़ताल की पूर्व लिखित सूचना अपने मेडिकल सुपरिटेंडेंट को दे दी है।

दिल्ली के इन अस्पतालों में हड़ताल

शनिवार को दिल्ली के जिन अस्पतालों के डॉक्टर हड़ताल पर शामिल रहेंगे, उनमें एम्स, सफदरजंग हॉस्पिटल, बाबा साहब अंबेडकर मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, हिंदूराव हॉस्पिटल, बीएमएच दिल्ली, दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल, संजय गांधी मेमोरियल हॉस्पिटल, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज एंड एसोसिएटेड हॉस्पिटल्स, इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहेवियर एंड अलाइड साइंसेज (इहबास), श्री दादा देव मातृ एवं शिशु चिकित्सालय, नॉर्दन रेलवे सेंट्रल हॉस्पिटल, ईएसआईसी हॉस्पिटल, चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय, गुरु तेग बहादुर हॉस्पिटल और गुरु गोविंद सिंह हॉस्पिटल समेत अन्य हॉस्पिटल शामिल हैं।

जम्मू-कश्मीर में भी हड़ताल 

दिल्ली के अलावा जम्मू कश्मीर में भी डॉक्टरों ने 2 घंटे की हड़ताल का एलान किया है। जम्मू एंड कश्मीर डॉक्टर्स कोऑर्डिनेशन कमेटी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर और लेह रीजन के सभी अस्पतालों में 15 जून को सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक दो घंटे की सांकेतिक हड़ताल रहेगी।

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है  कि 10 जून को नील रत्न सरकार (NRS) मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान एक 75 वर्षीय मरीज की मौत हो गई थी। इससे गुस्साए परिजनों ने हॉस्पिटल में पहुंचकर डॉक्टरों को गालियां दी थी। इसके बाद डॉक्टरों ने माफी मांगने को कहा, उन्होंन कहा कि जब तक मृतक के परिजन हमसे माफी नहीं मांगते हैं, तब तक हम प्रमाण पत्र नहीं देंगे। जिसके बाद ये मामला तूल पकड़ता गया और 5 दिन से लगातार डॉक्टरों का ये विरोध जारी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.