लॉकडाउन का दिल्ली की हवा पर पड़ा असर, यूरोपीय देशों जितनी हुई साफ

दिल्ली की हवा इन दिनों यूरोपीय देशों की तरह साफ हो गई है। एयर क्वालिटी इंडेक्स भी PM 10 और PM 2.5 तक के स्तर पर ही है, जितना कि यूरोपीय देशों में देखने को मिलता है। यह हवा उतनी साफ है, जितनी 10 साल पहले कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान देखने को मिली थी। दरअसल कोरोना संकट के चलते इन दिनों देश में लॉकडाउन है और रेल, बस और विमान सेवाओं के साथ ही कंपनियों में भी काम बंद है। दो पहिया वाहन भी सड़कों पर नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में लॉकडाउन का असर दिल्ली की आबोहवा पर पड़ता दिख रहा है।

दिल्ली पिछले काफी समय से प्रदूषित हवा से परेशान थी लेकिन इस तरह से राजधानी की हवा साफ होगी किसी को इसकी कल्पना नहीं थी। बता दें कि 2010 में जब दिल्ली में कॉमनवेल्थ गेम्स हुए थे, तब मॉनसून का वक्त था। स्कूल कॉलेज और अन्य संस्थानों को बंद कर दिया गया था, उस समय भी पीएम 2.5 के आसपास था। पीएम 10 और 50 के आसपास इंडेक्स का रहना यानी सब कुछ एक्सीलेंट कैटेगरी में है।

वहीं दिल्ली की स्वच्छ हवा पर पर्यावरणविद मनोज मिश्रा ने कहाकि हवा तो हवा, जल भी शुद्ध हो गया है। यमुना और हिंडन नदियां खुद साफ हो गई हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की दहशत के बाद लॉकडाउन ने काफी कुछ बदल दिया है। दिल्ली की सड़कें जो अक्सर ट्रैफिक जाम से घंटों भरी रहती थीं, इन दिनों सुनसान और वीरान हैं। वायु-जल प्रदूषण के अलावा ध्वनि प्रदूषण में भी कमी आई है।