कोरोना वारियर्स: प्रदेश पुलिसकर्मी इस जंग में असली हीरो

छिंदवाड़ा: पूरे देश में में कोरोना का कहर लगातार जारी है। इससे  छिंदवाड़ा भी अछूता नहीं है। वर्तमान में जिले में चार लोग कोरोना पीड़ित पाए गए हैं इसमें से एक की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है। ऐसे में पूरे जिले में लोग अपने- अपने घरों में रहकर लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं। वहीं छिंदवाड़ा पुलिस अपनी जान की परवाह किए बिना शहर की सड़कों तिराहों चौराहों पर दिन रात लोगों की सेवा सुरक्षा करने में निरंतर जुटी हुई है। इस कठिन समय में वर्दी का कर्ज चुकाने के साथ- साथ अपना फर्ज निभाने का कार्य पुलिसकर्मी पूरी ईमानदारी के साथ लोगों की सुरक्षा कर रहे हैं।

वर्तमान स्थिति में यह एक वर्दी नहीं सफेद कफन है जिसे पहनकर आज पुलिसकर्मी गली चौराहों में खड़े होकर लोगों की सुरक्षा कर रहे हैं, आमजन की सेवा और सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी अगर ड्यूटी के बीच कुछ समय के लिए अपने घर भी जाते हैं तो वे अपने परिवारजनों छोटे बच्चों से ठीक ढंग से मुलाकात भी नहीं करते। उन्हें अपने परिवारजनों की सुरक्षा को भी देखना होता है। यही वजह है की चंद समय के लिए घरों में पहुंचने वाले पुलिसकर्मी घरों के बाहर ही बैठकर भोजन करते हैं।

यह पुलिसकर्मी घर के बाहर ही परिवार के सदस्यों बच्चों से मिलकर अपनी ड्यूटी में वापस लौट आते हैं। वाकई में डॉक्टरों के बाद अगर कोई कोरोना फाइटर है तो वो ये पुलिसकर्मी हैं जो स्वयं अपने परिवार की परवाह किए बिना हमारी आपकी सुरक्षा सेवा में दिन रात जुटे हुए हैं जो काबिले तारीफ हैं। भगवान इन सभी को स्वस्थ और सुरक्षित रखे। साथ ही इन्हे इतनी शक्ति दे कि ये सभी अपना फर्ज इसी तरह आगे भी निभाते रहें। जब तक की देश, प्रदेश और हमारे शहर में करोना पूरी तरह समाप्त ना हो जाए।