मरकज की वजह से देश में बढ़ा कोरोना, 24 घंटे में 386 नए मामले आए सामने: स्वास्थ्य मंत्रालय

कोरोना वायरस की देश में स्थिति को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि 24 घंटे में 386 मामले सामने आए हैं। मरकज की वजह से देश के हालात खराब हुए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि लॉकडाउन में धार्मिक कार्यक्रम नहीं होने चाहिए।

मंत्रालय ने कहा कि अभी तक 1637 कोरोना पॉजिटिव केस पाए गए है। कल से लेकर अब तक386 नए केस सामने आए, 3 नई  मौतें हुई। लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना के 132 मरीज़ ठीक हो गए हैं। कल से पॉजिटिव मामलों में वृद्धि हुई है ।इसका एक मुख्य कारण तब्लीगी जमात के सदस्यों द्वारा यात्रा है। तब्लीगी जमात से संबंधित 1800 लोगों को 9 अस्पतालों और क्वारंटाइन केंद्रों में भेजा गया है

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद आर. गंगा केतकर ने कहा कि हमने अब तक 47,951 परीक्षण किए हैं। ICMR नेटवर्क में 126 लैब हैं, 51 निजी लैबों की संख्या स्वीकृत की गई है। मंत्रालय ने कोरोना के संक्रमण से गंभीर रूप से प्रभावित मरीजों के इलाज के लिये मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के साथ एजीथ्रोमाइसीन देने की सिफारिश की है। मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी संशोधित दिशानिर्देश में कहा कि यह दवा फिलहाल 12 साल से कम उम्र के बच्चों और गर्भवती महिलाओं तथा शिशुओं को दुग्धपान कराने वाली महिलाओं को नहीं नहीं दी जा रही हैं।

बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को साफ किया था कि  हर किसी को मास्क पहनने की जरूरत नहीं है। कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंस) का पालन करना अधिक महत्वपूर्ण है। घर पर बनाए जा रहे मास्कों की तकनीकी रूप से जांच की जा रही है। जल्द ही उचित दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे।