ब्रह्माकुमारी संस्थान की मुख्य दादी जानकी ने निधन पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति कोविंद ने व्यक्ति किया शोक

नई दिल्ली। विश्व के सबसे बडे आध्यात्मिक संगठनों में से एक ब्रह्माकुमारी संस्थान की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी का 104 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। उनके निधन पर पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया है। पीएम मोदी ने उनके साथ अपनी एक तस्वीर शेयर करते हुए उन्होंने लिखा कि ब्रह्म कुमारियों के प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी जी ने परिश्रम के साथ समाज की सेवा की। वह दूसरों के जीवन में सकारात्मक अंतर लाने के लिए सबसे ऊपर थी। महिलाओं को सशक्त बनाने की दिशा में उनके प्रयास उल्लेखनीय थे। इस दुख की घड़ी में मेरे विचार उनके अनगिनत अनुयायियों के साथ हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के साथ-साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी उनते निधन पर शोक व्यक्त करते हुए लिखा ब्रह्मकुमारी संस्था की प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी जी के निधन के बारे में सुनकर अत्यंत दुःख हुआ। अध्यात्म, समाज कल्याण और विशेष रूप से महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में उनका अमूल्य योगदान रहा है। उनके अनगिनत श्रद्धालुओं के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं।

जानकारी के लिए बता दें कि दादी जानकी दुनिया में एकमात्र ऐसी महिला थीं जिन्हें मोस्ट स्टेबल माइंड इन वर्ल्ड का खिताब मिला था। उनका अंतिम संस्कार शुक्रवार शाम 3.30 बजे माउण्ट आबू में ही ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन में किया जाएगा। राजयोगिनी दादी जानकी इसी साल  1 जनवरी को 104 वर्ष की हुई थीं। 140 देशों में फैले अंतरराष्ट्रीय आध्यात्मिक संस्थान का संचालन करने वाली वे दुनिया की पहली मुख्य प्रशासिका हैं। बता दें कि बचपन से भक्ति भाव के संस्कार में पली बढ़ी दादी ने योग के जरिए विश्व के 140 से अधिक देशों में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई। इस संस्था के साथ वो 1937 से जुड़ी। दादी जानकी के बारे में कहा जाता है कि वो विश्व की सबसे स्थिर मन वाली महिला थी।