Coronavirus: मुख्यमंत्री योगी ने संभाली कमान, किया राज्य संक्रामक रोग नियंत्रण कक्ष का निरीक्षण

लखनऊ। चीन से फैले कोरोना वायरस के कहर से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने जोरदार तैयारी कर रखी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद मोर्चा संभाल लिया है। बीते तीन-चार दिन से वह लगातार स्वास्थ्य तथा नगर विकास के साथ ही अन्य विभाग से साथ लगातार बैठक कर रहे हैं। सभी को सतर्क रहने के निर्देश देने के साथ ही खुद भी मोर्चे पर डटे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ में सोमवार को स्वास्थ्य भवन में राज्य संक्रामक रोग नियंत्रण कक्ष का निरीक्षण किया। उनके साथ स्वास्थ मंत्री जय प्रताप सिंह तथा सूबे के आला अधिकारी भी थे।उत्तर प्रदेश में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या तक 13 पहुंची है। इसके साथ ही इस समय 18 नए संदिग्ध अस्पताल में भर्ती हैं। लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल कालेज में लगभग रोज पांच दर्जन सैंपल टेस्ट के लिए भेजे जा रहे हैं। हर जिले में जिला अस्पताल में भी इससे संक्रमित लोगों को आइसोलेट करने के इंतजाम हैं।

मास्क व ग्लब्स की कालाबाज़ारी करने वालों पर सख्त कार्रवाई

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए यूपी सरकार की ओर से पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं मास्क व ग्लब्स की कालाबाजारी रोकने के लिए टीमें गठित की गई हैं। मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ ने मीडिया से बातचीत में कहा कि जिस भी जिले से कालाबाजारी की शिकायत मिलेगी वहां सख्त कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मास्क व ग्लब्स की अस्पतालों में कोई कमी नहीं है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह अधिक से अधिक जागरूकता फैलाएं और हर जिले में टीमों को सक्रिय रखें। स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि राज्य में जल्द ही एक और बड़ा संक्रामक रोग नियंत्रण कक्ष बनाया जाएगा जहां से हर जिलों की मॉनिटरिंग के लिए सभी संसाधन मौजूद रहेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना वायरस अभी उत्तर प्रदेश में सेकेंड स्टेज में है। हम लोगों ने इसको लेकर समुचित तैयारी कर ली है। सभी अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में मास्क, ग्लव्स व गाउन हैं। इसके साथ ही हमारे पास इस समय 1268 बेड के आइसोलेशन वार्ड भी तैयार है। हर जिले में इनको तैयार किया गया है। सभी जिलों में डॉक्टर्स,पैरामेडिकल स्टाफ व आशा वर्कर को ट्रेनिंग दी गई है। इसके साथ ही प्रदेश के हर जिले में होर्डिंग्स लगाकर इसके बचाव तथा उपचार की जानकारी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरी जानकारी में आया है कि कुछ लोग मास्क के साथ ही सेनेटाइजर तथा अन्य उपयोगी दवा की कालाबाजारी कर रहे हैं। ऐसा अगर एक भी मामला संज्ञान में आया तो दोषी के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्रवाई होगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर भारत सरकार ने एडवाइजरी भी जारी की है। हम उसका अनुसरण कर रहे हैं। पीएम नरेंद्र मोदी इसको लेकर बेहद गंभीर हैं। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस के उपचार से महत्वपूर्ण इससे बचाव है। हम भी जनता को इससे बचाने के हर प्रकार के उपाय कर रहे हैं।

आगरा में कोरोना वायरस के आठ में से चार पॉजिटव केस को फिट घोषित करने के बाद नई दिल्ली के अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। यह लोग अब पूरी तरह स्वस्थ्य हैं। राजधानी लखनऊ में छह अस्पतालों को कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज के लिए संसाधनों से लैस किया गया है। इनमें केजीएमयू, सिविल हॉस्पिटल, लोहिया हॉस्पिटल, बलरामपुर हॉस्पिटल, लोकबंधु और एसजीपीजीआई शामिल हैं। कोरोना पॉजिटिव को इन अस्पतालों में एडमिट किया जा रहा है। कोरोना वायरस संक्रमण के जांच की सुविधा सिर्फ केजीएमयू में उपलब्ध है। प्रदेश में आगरा कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित जिला है।

योगी आदित्यनाथ सरकार कोरोना वायरस के संक्रमण पर रोक लगाने के लिए कई एहतियाती कदम उठा रही है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए किए जा रहे इंतजामों की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा की। सभी मंडलायुक्त, जिलाधिकारियों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों और अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों से कोरोना के संबंध में तैयारियों का मुख्यमंत्री योगी ने जायजा लिया।

कोरोना की पहली और दूसरी जांच मुफ्त

केद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को स्पष्ट किया कि देश के सभी लोगों के लिए कोरोना वायरस संक्रमण की पहली और दूसरी जांच मुफ्त होगी। इन दोनों जांच के बाद ही कोरोना की पुष्टि होती है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि लखनऊ, आगरा, गौतमबुद्धनगर (नोएडा), गाजियाबाद के अलावा भारत-नेपाल सीमा के सात जिलों पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, बहराइच, श्रवस्ती, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर और महराजगंज में सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स और क्लब अग्रिम आदेशों तक बंद कर दिए जाएं।