कोरोना: केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला- दिल्ली में नहीं होंगे IPL मैच, सभी सेमिनार कैंसिल

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने खतरनाक कोरोना वायरस (COVID-19) के खतरे को देखते हुए 29 मार्च से शुरू होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) समेत सभी खेलों के आयोजन पर शुक्रवार को रोक लगा दी। दिल्ली के डिप्टी सीएम एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press conference) में कहा कि दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए IPL समेत सभी खेल, बड़े सेमिनार, कांफ्रेंस आदि के आयोजन पर पाबंदी लगा दी है। सिसोदिया ने कहा कि सभी जिलाधिकारी और उप-जिलाधिकारी अपने क्षेत्रों में कोरोना संबंधी आदेशों के पालन पर निगरानी रखेंगे। हम सभी को मिलकर इस ख़तरनाक वायरस को फैलने से रोकना है।

सिसोदिया ने कहा कि सरकार ने तय किया है कि दिल्ली में होने वाले IPL मैच पर रोक लगाएंगे जहां लोग हजारों की संख्या में मैच देखने आते हैं। कोरोना के खतरे को देखते हुए लोगों को ऐसे आयोजन स्थानों पर एकत्रित होने से रोकना जरूरी है। इसके अलावा IPL की संचालन परिषद की शनिवार को मुंबई में महत्वपूर्ण बैठक होगी जिसमें भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) IPL के मामले पर अंतिम फैसला लेगा। IPL 29 मार्च से शुरु होना है और इसका पहला मुकाबला गत चैंपियन मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच मुंबई के वानखेडे स्टेडियम में खेला जाना है।

BCCI भी IPL को दर्शकों के बिना कराने की संभावना पर विचार कर रहा है। लेकिन IPL टीमें टूर्नामेंट के लिए विदेशी सितारों को चाहती हैं जबकि सरकार के ताजा परामर्श के बाद यह स्थिति मुश्किल लगती है। सरकार ने सभी मौजूदा वीजा पर 15 अप्रैल तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। इसमें केवल राजनयिक और रोजगार को छूट दी गई है। इस स्थिति में विदेशी खिलाड़ियों का 15 अप्रैल तक IPL में हिस्सा लेना मुश्किल है। खेल मंत्रालय ने BCCI सहित सभी राष्ट्रीय खेल महासंघों को कहा है कि वह स्वास्थ्य मंत्रालय के परामर्श का पालन करें और कोरोना के खतरे को देखते हुए ऐसे टूर्नामेंटों का आयोजन करने से बचें जहां भारी संख्या में लोग एकत्र होते हैं।