गृह मंत्रालय ने बंगाल सरकार को जारी की एडवाइजरी, कानून-व्यवस्था बनाने के दिए निर्देेश

0
115

कोलकाताः केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यकर्ताओं के बीच शनिवार को खूनी हिंसा में भाजपा के तीन और तृणमूल के एक कार्यकर्ता की मौत के बाद आज विस्तृत रिपोर्ट मांगी और एडवाइजरी जारी की है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि राज्य सरकार की जिम्मदारी राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने की है। साथ ही कहा गया है कि राज्य गृह मंत्रालय के सलाहकार लापरवाह अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई करें। इस बीच अपुष्ट सूत्रों ने बताया है कि नजात में हिंसा में मरने वालों की संख्या चार हो गयी है यहां परस्पर विरोधी समूहों में घंटों तक बमबारी, गोलीबारी और पथराव की घटनाएं हुई हैं।
भाजपा के प्रदेश महासचिव सयांतन बसु ने कहा कि खूनी हिंसा में उनके तीन कार्यकर्ताओं की मौत हो गयी और इनकी पहचान तपन मंडल, सुकांत मंडल और प्रदीप मंडल के रूप में हुई है। भाजपा नेता मुकुल रॉय ने ट्वीट किया ‘‘राज्य संदेशखली में तृणमूल के गुंडों ने भाजपा के तीन कार्यकताओं की गोली मार कर हत्या की है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार है।”
PunjabKesari
रॉय ने कहा , ‘‘हम गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर उन्हें संदेशकली हत्याओं से अवगत कराएंगे।” उधर जिले के पार्टी प्रभारी और पश्चिम बंगाल के मंत्री ज्योतिप्रियो मलिक ने कहा है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी समर्थक कयूम मुल्ला की गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के वक्त कयूम तृणमूल की बैठक में हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘कानून और व्यवस्था राज्य सरकार का विषय है और केन्द्र सरकार का इससे कोई लेना देना नहीं है।”
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य में भाजपा के 54 कार्यकर्ताओं के मारे जाने के पार्टी के दावे के विरोध में 30 मई को नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के निमंत्रण को ठुकरा दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here