MP में कोरोना की दहशत, 5 लाख कर्मचारियों ने Biometric Attendance पर रोक लगाने की मांग

भोपाल: मध्य प्रदेश में सरकारी दफ्तरों में कर्मचारियों ने कोरोना वायरस(Corona virus) के डर से बायोमैट्रिक मशीन (Biometric Attendance) पर अटेंडेंस लगाने पर रोक लगाने की मांग की है। लगभग 5 लाख कर्मचारियों का तर्क है कि एक दफ्तर में एक या दो मशीनें ही हैं और उन पर सैकड़ों कर्मचारी अंगूठा(thumbnail) लगाते हैं। इस तरह एक ही मशीन पर कई अधिकारी, कर्मचारियों द्वारा अंगूठा व अंगुली लगाकर अटेंडेंस दर्ज कराने से कोरोना वायरस फैल सकता है।

इस मांग को लेकर मप्र तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों ने शुक्रवार को सतपुड़ा भवन में आयुक्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रतीक हजेला को पत्र सौंपा है। इसमें रजिस्टर पर अटेंडेंस दर्ज कराने की मांग रखी है। आयुक्त ने मामले को गंभीरता से लेते हुए उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

बता दें कि प्रदेश विभिन्न् सरकारी दफ्तर, निगम मंडल, आयोग, स्कूल, कॉलेज, कलेक्टर, कमिश्नर कार्यालय, सतपुड़ा भवन, विंध्याचल भवन में लगने वाले दफ्तरों में 10 लाख से अधिक अधिकारी, कर्मचारी कार्यरत हैं। इनमें से करीब 5 लाख कर्मचारी बायोमेट्रिक अटेंडेंस के दायरे में आते हैं। देशभर में फैले कोरोना वायरस की दहशत को देखते हुए मप्र तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के प्रांतीय महामंत्री लक्ष्मीनारायण शर्मा ने कहा कि एक ही मशीन पर कई कर्मचारियों के थंब इम्प्रेशन से खतरा हो सकता है।