कमलनाथ सरकार पर कोई खतरा नहीं, हमारे विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई: दिग्विजय सिंह

भोपाल: कांग्रेस के दिग्गज नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने राज्य में चल कही सियासी घमासान के बीच स्पष्ट किया है कि सरकार पूरी तरह से सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि जो कहता हूं बिना प्रमाण के नहीं कहता हूं, अब साबित हो गया। शिवराज सिंह यहां पर हैं, बताएं क्या हुआ रात में आगे बोलते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि कमलनाथ सरकार पर कोई खतरा नहीं है। बीजेपी ने विधायकों को खरीदने का प्रयास किया, थैले भर भरके नोट ऑफर किए गए। मगर हमारे विधायक बिकाऊ नहीं हैं।

एक तरफ कांग्रेस, बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगा रही है वो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस सरकार बचाने का भरसक प्रयास कर रही है। इसके तहत पार्टी ने अलीराजपुर के दोनों कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया(जोबट) और मुकेश पटेल (अलीराजपुर) भोपाल तलब किया। पार्टी के आदेश पर दोनों विधायक मुख्यमंत्री आवास पहुंचे भी गए।

वहीं राज्यसभा सांसद विवेक तनखा का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी पहले से जानकारी थी कि बीजेपी सरकार गिराने का हरसंभव प्रयास करेगी। उन्होंने जिन विधायकों के बीजेपी में जाने की बातें सामने आ रही हैं वो कांग्रेस में फैले असंतोष के कारण हो रहा है। पार्टी को चाहिए कि वो अपने विधायकों को समझाए और वापस ले कर आए।

साथ ही विवेक तनखा ने कहा कि ये मिशन लोटस राज्यसभा चुनाव को प्रभावित करने के लिए किया गया है। हॉर्स ट्रेडिंग का वीडियो सामने आने पर उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को इसपर एफआईआर दर्ज करनी चाहिए। विवेक ने इस घटना के लिए पार्टी को ही जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि अगर कोई अलग से प्रदेश अध्यक्ष होता तो ऐसे हालात बनते ही नहीं। हमारे पास कोई ऐसा व्यक्ति नहीं जो पीसीसी दफ्तर में लगातार बैठे और सबसे संपर्क करे।