हांगकांग में प्रत्यर्पण बिल के खिलाफ सड़कों पर उतरे लाखों लोग, प्रदर्शन में कई घायल

बीजिंगः हांगकांग में सरकार के प्रत्यर्पण बिल के नए संशोधन के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के दौरान हिंसा से सोमवार को कई लोग घायल हो गए। हिंसक प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए पुलिस को आंसू गैस और डंडो का इस्तेमाल करना पड़ा, इस दौरान कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए।साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट समाचार पत्र की ओर से रविवार को जारी रिपोटर् में आयोजकों का हवाला देते हुए बताया गया कि 10लाख से अधिक लोगों ने संशोधन के विरोध में सड़कों पर उतरे।

संशोधित बिल को मंजूरी मिलने पर, भगोड़े लोगों को न्यायालयों में स्थानांतरित करने की अनुमति होगी, जिनके साथ हांगकांग का कोई संबंधित समझौता नहीं हैं। पुलिस ने कहा कि केवल 240000 लोग प्रदर्शन में भाग ले रहे थे। कानून प्रवर्तन ने सात लोगों को हिरासत में लिया और आंसू गैस का इस्तेमाल किया। इस बीच आरटीएचके प्रसारक ने बताया कि स्थानीय समय मध्यरात्रि के बाद विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया क्योंकि कुछ प्रदर्शनकारियों ने विधान परिषद को घेरने के आह्वान के साथ आगे बढ़े।प्रदर्शनकारियों ने अधिकारियों पर बोतलें फेंकना शुरू कर दिया जबकि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को डंडों से मारा और काली मिर्च गैस का इस्तेमाल किया। कम से कम दो पुलिस अधिकारी घायल हुए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, घायल में एक को आंख में चोट लगी। कई पत्रकारों और एक स्थानीय टीवी चैनल के संचालक को भी चोटें आईं। सेना और खुफिया संगठन आइएसआइ के खिलाफ जो भी आवाज देश में उठती है उसे सख्ती से दबा दिया जाता है या हमेशा के लिए शांत कर दिया जाता है।

उत्पीड़न के सबसे ज्यादा शिकार बलूचिस्तान इलाके में विदेशी पत्रकारों और विदेशी गैर सरकारी संगठनों को जाने की अनुमति नहीं है। अगर ये तबका बलूचिस्तान जाएगा तो वहां की असलियत दुनिया के सामने आ जाएगी, इसलिए एजेंसियां वहां पर गुपचुप उत्पीड़न की कार्रवाई जारी रखती हैं। अभियानकर्ता मोटर साइकिलों पर मदद और पाकिस्तान में लापता होने की वारदातों पर रोक लगाने में सहयोग की मांग करने वाली तख्तियां लगाकर लंदन की सड़कों पर घूम रहे हैं। आपबीती बताने के लिए पर्चे बांट रहे हैं।