बलूच कार्यकर्ताओं का आरोप, बलूचिस्तान के लोगों को चुकानी पड़ रही है CPEC की भारी कीमत

जेनेवा। बलूच राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाते हुए कहा है कि अरबों डॉलर के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) की भारी कीमत बलूचिस्तान में लोगों को चुकानी पड़ रही है। जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 43 वें सत्र के दौरान ‘सीपीईसी: द एक्सप्लोइटेटिव प्रोजेक्ट्स ह्यूमन कॉस्ट इन बलूचिस्तान’ शीर्षक से एक कार्यक्रम में उन्होंने ये बात कही।

कार्यक्रम में बोलते हुए बलूच राष्ट्रीय आंदोलन के एक नेता हकीम बलूच ने कहा कि बलूच लोग खुश नहीं हैं और सीपीईसी के खिलाफ लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘सीपीईसी वहां लंबे समय से है और लोग इसके बारे में अपनी आवाज और चिंताओं को उठाते रहे हैं। सिर्फ सीपीईसी ही समस्या नहीं है, ‘वन बेल्ट वन रोड’ भी बड़ी समस्या है जिसे दुनिया को समझना चाहिए।

हकीम बलूच ने अपनी बात में आगे जोड़ते हुए कहा, ‘हम दुनिया को इस बारे में बताने की कोशिश कर रहे हैं कि यह एक आर्थिक परियोजना नहीं है। हम बलूचिस्तान में चीनी इंफ्रास्ट्रकचर देख रहे हैं और ये भी देख रहे हैं कि ग्वादर और अन्य क्षेत्रों के स्थानीय लोगों को कितनी बेरहमी से निकाला जा रहा है। उन्होंने मछुआरों के लिए मछली पकड़ना असंभव बना दिया है।’

रास्ता साफ करने में जुटा पाक

सीपीईसी परियोजना की शुरुआत के बाद से बलूचिस्तान में लोगों के गायब होने, लोगों पर यातनाएं और उनकी हत्याओं की घटनाओं में तेजी देखी गई है। इस परियोजना के लिए चीन को साफ रास्ता देने के लिए पाकिस्तानी सेना ने उन क्षेत्रों में अभियान चला रही है जहां से ये परियोजना गुजर रही है।

ये हमारे लिए दुर्भाग्यपूर्ण

एक अन्य बलूच कार्यकर्ता हातिम बलूच ने कहा, ‘आम तौर पर जब किसी क्षेत्र में इस तरह के विकास के कार्य होते हैं, तो यह लोगों के जीवन में समृद्धि लाता है, लेकिन दुर्भाग्य से हमारे साथ ऐसा नहीं हो रहा है। यह पूरी तरह से अलग योजनाएं हैं। इसे बलूच लोगों की इच्छा के बिना किया जा रहा है, वे इस्लामाबाद में योजना बनाते हैं और हम पर लागू करते हैं।’ उन्होंने कहा कि यह लोगों के लिए अधिक विनाश लेकर आया है और इस क्षेत्र में कोई भी विकास लाने में विफल रहा है।

सीपीईसी ने पाक अर्थव्यवस्था को ऑक्सीजन दिया

बलूच नेशनल मूवमेंट के नेता नसीम बलूच ने इसपर कहा, ‘सीपीईसी (CPEC) जैसी कई परियोजनाएं बलूच लोगों के खून से और बलूच लोगों की लाशों पर बनाई जा रही हैं। सीपीईसी ने इसे और तेज कर दिया है। जब पाकिस्तान दिवालिया होने की कगार पर था, तब सीपीईसी के 60 बिलियन अमरीकी डालर ने अर्थव्यवस्था के लिए ऑक्सीजन के रूप में काम किया।’

पाक ने बलूचिस्तान में तेज किया सैन्य अभियान

नसीम ने कहा कि सीपीईसी के रास्ते में आने वाले लगभग सभी घर और खेत नष्ट हो रहे हैं। इसका फायदा उठाते हुए पाकिस्तान ने बलूचिस्तान में सैन्य अभियान तेज कर दिया है। उन्होंने इस परियोजना के रास्ते में आने वली हर चीज को नष्ट कर दिया है, चाहे वह मानव बस्ती हो या कृषि भूमि।

खनिज और गैस का विशाल भंडार

बलूचिस्तान खनिज और गैस के विशाल भंडार वाला एक संसाधन संपन्न क्षेत्र है, लेकिन इस्लामाबाद की शोषणकारी नीतियों के कारण यह गरीब बना हुआ है। इसने बलूचिस्तान में एक स्वतंत्रता आंदोलन को जन्म दिया है।