शर्मनाक: रायसेन में आदिवासी महिला से सामूहिक दुष्कर्म, दो आरोपी गिरफ्तार, एक फरार

रायसेन: मध्यप्रदेश के रायसेन जिले से मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। जिला मुख्यालय से लगभग 100 किलोमीटर दूर उदयपुरा के निकट पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ 40 वर्षीय आदिवासी महिला के साथ सामूहिक बलात्कार का मामला दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक आरोपी फरार है।

वहीं उदयपुरा थाने के प्रभारी निरीक्षक इंद्रराज सिंह ने बताया कि सामूहिक बलात्कार के आरोप में बोरास गांव के निवासी कुंवर लाल और मंजू गोंड को गिरफ्तार किया गया है, जबकि मामले में एक आरोपी प्रीतम बेड़िया फरार है और पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

थाना प्रभारी निरीक्षक इंद्रराज सिंह ने बताया कि पीड़िता की शिकायत के हवाले से बताया कि छिंदवाड़ा की रहने वाली महिला शुक्रवार देर शाम को सिलवानी तहसील के ग्राम सांईखेड़ा जाने के लिए निकली थी तथा एक ट्रैक्टर से लिफ्ट लेकर बोरास गांव तक पहुंच गई।

वहां से वह साईंखेड़ा जाने के लिए बस का इंतजार कर रही थी लेकिन रात 10 बजे तक बस नहीं आई तो बोरास गांव के निवासी कुंवरलाल उसे रात अधिक होने के कारण अपने घर ले गया। वहां कुंवर लाल ने अपने दोनों साथी मंजू गौड़ और प्रीतम बेड़िया को भी बुला लिया और तीनों ने शराब पीने के बाद महिला के साथ दुष्कर्म किया।

इंद्रराज सिंह ने बताया कि सुबह महिला ने घटना की जानकारी उदयपुरा पुलिस थाने को दी। इसके बाद पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को भादंवि की सम्बद्ध धाराओं में गिरफ्तार कर लिया। पुलिस फरार आरोपी की तलाश कर रही है।