राजगढ़ थप्पड़ कांड: जांच कमेटी ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट, कलेक्टर का ASI काे थप्पड़ मारने के प्रमाण नहीं

भाेपाल: मध्य प्रदेश में राजगढ़ जिले की कलेक्टर निधि निवेदिता के थप्पड़ कांड की जांच के लिए बनी वरिष्ठ अफसराें की कमेटी ने साेमवार काे अपनी रिपाेर्ट सरकार काे साैंप दी है। नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे और एडीजी उपेंद्र जैन की दाे सदस्यीय कमेटी ने जांच के दाैरान कलेक्टर निधि निवेदिता समेत 20 अधिकारी-कर्मचारियाें के बयान दर्ज किए।

वहीं रिपाेर्ट में कलेक्टर का थप्पड़ प्रमाणित नहीं हाे पाया है। कमेटी को ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला, जिससे कलेक्टर का एएसआई को थप्पड़ मारे जाने की पुष्टि हो पाए। कमेटी ने यह रिपोर्ट गृह विभाग को भेजी है। इसके बाद जांच रिपोर्ट मुख्य सचिव एसआर मोहंती के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजी जाएगी। मुख्य सचिव का कहना है कि साेमवार शाम तक उन्हें रिपाेर्ट नहीं मिली है। वरिष्ठ अफसराें की कमेटी ने सिर्फ एएसआई थप्पड़ केस काे ही जांच के दायरे में लिया था।

प्रदेश के राजगढ़ जिले के ब्यावरा में 19 जनवरी को सीएए के समर्थन में रैली के दौरान ड्यूटी पर तैनात एएसआई नरेश शर्मा ने शिकायत की थी कि कलेक्टर मैडम ने उन्हें थप्पड़ मारा। एएसआई ने शिकायत में बताया था कि दोपहर 1 बजे वे ड्यूटी पर तैनात थे। उसी दौरान कलेक्टर मैडम आईं और उन्होंने गाड़ी का गेट खोलकर उसे थप्पड़ मार दिया। कलेक्टर के इस व्यवहार से वह बहुत आहत हैं। इसकी जांच एसडीओपी सौम्या अग्रवाल ने की। जांच में शिकायत सही पाई गई। यह जांच रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय भेजी गई थी। डीजीपी वीके सिंह ने गृह विभाग के प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर यह जानकारी दी। डीजीपी ने लिखा था कि कलेक्टर के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।