देवास में CAA के विरोध में बोले पूर्व CM दिग्विजय सिंह- देश का माहौल बिगाड़ने केे लिए ये कानून लाया गया

देवास: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह देवास जिले के आनंद नगर कालोनी में सीएए के विरोध में चल रहे प्रोटेस्ट में शनिवार रात को पहुंचे और धरने पर बैठे। वहीं इस दौरान लोगों को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि राज्य सरकार इसमें निर्णय ले चुकी है कि सीएए, एनपीआर, एनआरसी के हम लोग खिलाफ हैं।

असम में एनआरसी का डाटा गायब होने के मामले को लेकर दिग्विजय सिंह बोले एनआरसी का वो डाटा है,जिसको स्वयं गृहमंत्रीजी खारिज कर चुके हैं। अब यह जवाबदारी उन्ही की है। जो कुछ भी डाटा था। वह भी गया। अब ये केवल लोगों को परेशान करना है। हिन्दू-मुसलमानों को बांटना है। वहीं दिग्विजय सिंह ने सीएए को काला कानून बताते हुए कहा कि इस कानून की जरूरत नहीं थी। ये कानून लाने की कोई जरूरत नहीं थी। केवल देश का माहौल बिगाड़ने केे लिए ये कानून लाया गया है।

वहीं पकिस्तान से भारत आए सिंगर अदनाम सामी को पद्मश्री अवार्ड देने को लेकर दिग्विजय सिंह बोले- अदनान सामी को भी नगारिकता हमने नहीं दी। मोदीजी ने दी है। अब तो उन्हें पद्मश्री भी दे दिया गया। दूसरों से बैर क्यों। अदनान सामी साहब के पिता पाकिस्तान के एयरफोर्स में हवाई जहाज से बम फेंकते थे। जब उनको नागरिकता दे दी तो असम के कप्तान सना उल्लाह जिसने भारत की फौज में सेवा करते हुए दुश्मनों से लड़ाई लड़ी। उसको आपने डिटेंशन कैंप में क्यों भेज दिया। ये दोहरा मापदंड है। हम इसके खिलाफ हैं।

भय और आतंक जनता में पैदा करना ये मोदीजी और शाहजी का षड्यंत्र है। भयभीत करना उनका लक्ष्य है। वहीं दिग्विजय सिंह बोले मैंने तो तय कर लिया है कि मैं एनपीआर में कोई कागज नहीं दिखाऊंगा। जो तुमको करना है कर लो।