केजरीवाल के मंत्रियों में किसी ने ‘आजादी के शहीदों’ के तो किसी ने ‘अल्लाह’ के नाम पर ली शपथ

नई दिल्लीः आम आदमी पार्टी (AAP) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने रविवार को रामलीला मैदान में लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की। दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने केजरीवाल और उनके मंत्रिमंडल के छह मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण के दौरान केजरीवाल ने जहां ईश्वर के नाम पर शपथ ली। वहीं केजरीवाल के मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ लेते वक्त परंपरा से हटकर अलग-अलग नामों की कसमें खाईं।

पिछली सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे मनीष सिसोदिया और अन्य मंत्रियों सत्येन्द्र जैन, गोपाल राय, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन एवं राजेन्द्र पाल गौतम ने भी केजरीवाल के साथ सरकार के मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की। मनीष सिसोदिया और कैलाश गहलोत ने भी ईश्वर के नाम पर शपथ ग्रहण की वहीं गोपाल राय ने आजादी के शहीदों के नाम पर शपथ ली, जबकि इमरान हुसैन ने अल्लाह और राजेन्द्र पाल गौतम ने शपथ ग्रहण में भगवान बुद्ध के नाम का जिक्र किया।

  • गोपाल राय ने शपथ लेते हुए कहा…मैं गोपाल राय आजादी के शहीदों की शपथ लेता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा। मैं भारत की प्रभुता और अखंडता अक्षुण्ण रखूंगा। मैं मंत्री के तौर पर अपने कर्तव्यों का श्रद्धापूर्वक और शुद्ध अंतरमन से निर्वहन करूंगा. मैं भय या पक्षपात, अनुराग या द्वेष की भावना के बिना, सभी प्रकार के लोगों के लिए संविधान और विधि के अनुसार न्याय करूंगा। उन्होंने गोपनीयता की शपथ भी आजादी के शहीदों नाम पर ही ली।
  • पांचवें नंबर पर शपथ लेने आए इमरान हुसैन ने मंत्री पद की कहा शपथ लेते हुए कहा…’मैं, इमरान हुसैन, अल्लाह की शपथ लेता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा। मैं भारत की प्रभुता और अखंडता अक्षुण्ण रखूंगा। मैं मंत्री के रूप में कर्तव्यों का श्रद्धापूर्वक और शुद्ध अंतःकरण से निर्वहन करूंगा तथा मैं भय या पक्षपात, अनुराग या द्वेष के बिना सभी प्रकार के लोगों के प्रति संविधान और विधि के अनुसार न्याय करूंगा। हालांकि इमरान हुसैन ने गोपनीयता की शपथ ईश्वर के नाम पर ली।

बता दें कि उपराज्यपाल बैजल ने सबसे पहले 12 बजकर 15 मिनट पर केजरीवाल को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। इसके बाद सिसोदिया सहित अन्य मंत्रियों ने एक एक कर शपथ ग्रहण की। उल्लेखनीय है कि शपथ के निर्धारित प्रारूप में ‘ईश्वर’ के नाम पर संविधान के प्रति सत्यनिष्ठा की शपथ लेने का प्रावधान है। AAP ने केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान उनके साथ मंच साझा करने के लिए विभिन्न वर्गों के उन 50 लोगों को भी आमंत्रित किया था जिन्होंने पिछले पांच साल में दिल्ली सरकार के कार्यों में विशेष सहयोग दिया।

आईआईटी छात्र से लेकर दिल्ली मेट्रो की चालक सहित सभी 50 विशिष्ट आमंत्रित लोग शपथ ग्रहण के समय मंच पर मौजूद थे। शपथ ग्रहण समारोह में केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी आमंत्रित किया था, हालांकि प्रधानमंत्री का रविवार को बनारस में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम होने के कारण वह उपस्थित नहीं हो सके। उनके अलावा दिल्ली के भाजपा सांसदों और विधायकों को भी आमंत्रित किया गया है।