सिंधिया के बयान पर CM कमलनाथ ने जताई नाराजगी, कहा- घोषणा पत्र 5 साल के लिए है न कि पांच महीनों के लिए

नई दिल्ली: सीएम कमलनाथ ने शुक्रवार को कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया दी। सीएम कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस का चुनावी घोषणा पत्र पांच साल के लिए है न कि पांच महीने के लिए।
सीएम कमनलाथ दिल्ली में मीडिया द्वारा ज्योतिरादित्य सिंधिया के बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी पार्टी द्वारा किए गए वादों को पूरा नहीं किया गया तो वे सड़कों पर उतरेंगे का जबाव दे रहे थे। उन्होंने कहा कि पार्टी का वचन पत्र में किए वादे (घोषणा पत्र) पांच साल के लिए है, पांच महीनों के लिए नहीं।

बता दें कि, गुरुवार को मध्य प्रदेश में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पार्टी के घोषणा पत्र को पवित्र ग्रंथ कहा था। सिंधिया ने अतिथी शिक्षकों को आश्वासन देते हुए कहा था कि,आपकी मांग हमारी सरकार के घोषणापत्र में शामिल है और यह हमारा पवित्र पाठ है। सरकार को एक साल हो गया है, शिक्षकों को थोड़ा धैर्य रखना होगा। हमारी बारी आएगी और यदि नहीं तो मैं आपको आश्वस्त करता हूं।” मैं तुम्हारी ढाल और तलवार बनूंगा।

उन्होंने कहा, “अगर घोषणा पत्र में सभी वादे पूरे नहीं होते हैं, तो यह मत सोचिए कि आप अकेले हैं। सिंधिया भी आपके साथ सड़कों पर उतरेंगे।” गौरतलब है कि इससे पहले भी सिंधिया ने पार्टी लाइन से हटकर जम्मू-कश्मीर में धारा 370 खत्म करने के सरकार के कदम का खुले तौर पर समर्थन करने के बाद पार्टी प्रमुख के पद को लेकर पिछले साल सुर्खियां बटोरीं। वहीं अपने प्रोफाइल से कांग्रेस हटाकर समाज सेवक व क्रिकेटर प्रेमी लिखा था।