महाराष्ट्र में सरकार बनाने में CM कमलनाथ ने निभाई अहम भूमिका, ट्वीट कर कही ये बात

भोपाल: महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम का मंगलवार को बड़े ही नाटकीय ढंग से अंत हो गया। फ्लोर टेस्ट से पहले ही भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। वहीं, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अब महाराष्ट्र के नए सीएम के रुप में गुरुवार को शपथ लेगें। बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश के सीएम कमल नाथ ने महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनका बाला साहेब ठाकरे व महाराष्ट्र के कई कद्दावर नेताओं से अच्छे संबंध थे।

शरद पवार से पुरानी दोस्ती
कमल नाथ और राकांपा शरद पवार की पुरानी दोस्ती है। वे एक साथ लंबे समय तक केन्द्र में मंत्री भी रहे हैं। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम के बीच कमल नाथ राकांपा और कांग्रेस के नेताओं के साथ लगातार संपर्क में थे।

उद्धव ने दिया निमंत्रण
बताया जा रहा है कि उद्धव ठाकरे ने कमलनाथ को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का फोन कर न्यौता दिया है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार बनाने में मध्यप्रदेश के सीएम कमल नाथ ने अहम भूमिका निभाई। इस बात की पुष्टि जनसम्पर्क मंत्री पी सी शर्मा ने भी की है।

Office Of Kamal Nath

@OfficeOfKNath

आज संविधान दिवस है।
संविधान के मूल्यों की रक्षा का सभी ज़िम्मेदार लोगों पर दारोमदार है।
लोकतंत्र में जनता ही सबसे बड़ी ताक़त है , संविधान में निहित इस सच्चाई को समझने की आज महती आवश्यकता है।
1/2

Office Of Kamal Nath

@OfficeOfKNath

आज संविधान दिवस पर महाराष्ट्र मामले में आया सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला स्वागत योग्य है।
आख़िरकार न्याय की जीत हुई।
सत्य व लोकतंत्र की जीत सुनिश्चित हो चुकी है।लोकतंत्र का मखौल उड़ाने की कोशिश आख़िर नाकामयाब साबित हुई।
सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं।
सत्यमेव जयते।
2/2

138 people are talking about this
सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर निर्णय का किया स्वागत

महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम में सीएम कमल नाथ ने ट्वीट सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए ट्वीट किया है उन्होंने कहा- संविधान दिवस पर महाराष्ट्र मामले में आया सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला स्वागत योग्य है। आखिरकार न्याय की जीत हुई। सत्य व लोकतंत्र की जीत सुनिश्चित हो चुकी है। लोकतंत्र का मखौल उड़ाने की कोशिश आख़िर नाकामयाब साबित हुई। सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं।