आदिम जाति कल्याण विभाग का जिला संयोजक 27 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार

पन्ना: पन्ना जिले में लोकायुक्त पुलिस सागर ने आदिम जाति कल्याण विभाग के जिला संयोजक साबित खान को 27 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। उसने पैरामैट्रिक छात्रावास इंद्रपुरी कॉलोनी पन्ना की अधीक्षिका कृष्णा सोनी से साइकिल स्टैंड बनाने की भुगतान राशि के एवज में रिश्वत की मांग की थी। लोकायुक्त पुलिस ने साबित खान को कमीशन की पहली किस्त 27 हजार रुपए लेते धर दबोचा। फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ में जुटी है।

जानकारी के अनुसार, सोमवार को पन्ना की नई कलेक्ट्रेट भवन में तब हड़कंप मच गया, जब आदिम जाति कल्याण विभाग के जिला संयोजक साबित खान के कार्यालय में लोकायुक्त पुलिस ने दबिश दी। बताया जा रहा है कि कन्या पोस्टमैट्रिक छात्रावास इंद्रपुरी कालोनी की अधीक्षिका कृष्णा सोनी ने लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक सागर को शिकायत की थी

इसमें कहा गया कि छात्रावास में साईकिल स्टैंड का निर्माण कार्य करीब 6 माह पूर्व स्वीकृत हुआ था। जिसकी कुल स्वीकृत राशि 1 लाख 87 हजार रूपये पर 15 प्रतिशत की राशि रिश्वत के रूप में आदिम जाति कल्याण विभाग के जिला संयोजक द्वारा मांगी जा रही है। इतना ही नहीं राशि न देने पर उन्हें बहुत प्रताड़ित किया जा रहा है। वे इतनी बड़ी राशि देने में असमर्थ हैं।

शिकायत के आधार पर लोकायुक्त पुलिस पन्ना नवीन कलेक्ट्रेट भवन साबित खान के ऑफिस पहुंच गई। लेकिन साजिद खान को धर दबोचने में उन्हें कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। यह जानते हुए कि साजिद खान बहुत ही अनुभवी रिश्वतखोर है। बेहद चालाकी से उसे काबू करने के लिए जाल बिछाया गया। शातिर ने पुलिस को चकमा देने की काफी कोशिश की लेकिन लोकायुक्त पुलिस उसे रंगे हाथों पकड़ने में कामयाब हुई।

हालांकि जैसे ही साबित खान को रंगे हाथों दबोचा तभी उसका बीपी और शुगर लेवल आउट ऑफ कंट्रोल होने लगा। आनन-फानन में लोकायुक्त पुलिस ने डॉक्टर की टीम को बुलाकर उनका स्वस्थ स्वास्थ्य परीक्षण करवाया। कार्रवाई की खबर फैलते ही मीडिया कर्मियों का वहां जमावड़ा लग गया। जैसे ही मीडिया वहां पहुंची तभी साबित खान खड़े होकर अपने हाथ हिलाने लगे और बोले, देखो मेरे तो हाथ नहीं रंगे हैं मैंने रिश्वत नहीं ली है।