SBI खाताधारक सुरक्षित लेनदेन के लिए सेट कर सकते हैं हाई सिक्योरिटी पासवर्ड, जानें इसका तरीका

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक (SBI) खाते में आप हाई-सिक्योरिटी पासवर्ड सेट कर सकते हैं। इससे यूजर्स अपने मोबाइल फोन या ईमेल आईडी पर अपने लेनदेन से संबंधित अलर्ट पा सकते हैं। इसके बाद आपको लेन-देन को प्रमाणित करने के लिए वन-टाइम-पासवर्ड (ओटीपी) की जरूरत होगी। बता दें कि लॉगिन पासवर्ड और हाई सिक्योरिटी पासवर्ड दो अलग-अलग पासवर्ड हैं। कई बार जब आपके मोबाइल फोन पर एसएमएस के जरिए ओटीपी नहीं आता है, तो इसके लिए आपको अपने खाते में लॉग इन करके हाई-सिक्योरिटी पासवर्ड विकल्प को रीसेट करना होगा। इसके अलावा, खाताधारक अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वित्तीय और गैर-वित्तीय लेनदेन से संबंधित प्रमाण की डिटेल प्राप्त कर सकते हैं।

SBI में हाई-सिक्योरिटी पासवर्ड कैसे सेट करें

1. यूज़रनेम और लॉग-इन पासवर्ड का इस्तेमाल कर अपने एसबीआई खाते में लॉग इन करें। इसके बाद ‘माय अकाउंट्स एंड प्रोफाइल’ पर जाएं। अब प्रोफाइल टैब पर क्लिक करें। यहां आपको कई विकल्प दिखाई देंगे जैसे- मेरा प्रोफाइल, सेट अकाउंट नेम। आप खाता का प्रदर्शन, अपडेट ईमेल आईडी, पर्सनल डिटेल/मोबाइल, पासवर्ड बदलें, एक सीमा निर्धारित करें, आधार और एलपीजी सब्सिडी के लिए लाभार्थी, पैन रजिस्ट्रेशन और लिंक खाते को मैनेज करें।

2. आपको एक ‘उच्च-सुरक्षा विकल्प’ का चयन करना होगा। पेज खोलने पर आपके पास तीन विकल्प होंगे- (i) इंटर और इंट्रा बैंक लाभार्थी, क्रेडिट कार्ड (वीज़ा) लाभार्थी, आईएमपीएस और अंतरराष्ट्रीय फंड ट्रांसफर लेनदेन के लिए उच्च सुरक्षा (ii) व्यापारी लेनदेन के लिए उच्च सुरक्षा (iii) OTP के माध्यम से प्रमाणीकरण। उपरोक्त दो विकल्पों में आपको Yes और No के बीच चयन करना होगा, जबकि तीसरे विकल्प में आपको एसएमएस, स्टेट बैंक सिक्योर ओटीपी (मोबाइल ऐप), और एसएमएस और ईमेल का विकल्प चुनना होगा। वैसे आपको प्रत्येक लेनदेन के लिए अलर्ट प्राप्त करने के लिए एक एसएमएस और ईमेल विकल्प की जांच करनी चाहिए।

3. एक बार जब आप इनेबल हो जाते हैं फिर आप सबमिट बटन पर क्लिक करें। अब, जब भी आप ऑनलाइन या ऑफलाइन फंड ट्रांसफर करते हैं, तो आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस और ईमेल आईडी के माध्यम से अलर्ट मिलेगा।

ओटीपी सुविधा का उपयोग करके हाई सिक्योरिटी पासवर्ड के साथ आप अपने खाते से किए गए लेनदेन पर नज़र रख सकते हैं। अगर कोई अनधिकृत लेनदेन होता है, तो आपको एसएमएस और ईमेल आईडी के माध्यम तुरंत इसकी सूचना मिलेगी।