फिर रुलाने लगा प्याज, 80 रुपए किलो तक पहुंची कीमत

नई दिल्लीः सरकार के आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों को नियंत्रण रखने के कदमों के बावजूद दिल्ली में पिछले एक हफ्ते में प्याज का खुदरा मूल्य 45 प्रतिशत बढ़कर 80 रुपए किलो पहुंच गया है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 1 अक्टूबर को प्याज का भाव 55 रुपए किलो था। महाराष्ट्र जैसे प्याज उत्पादक राज्यों में भारी बारिश के बाद इस सब्जी की आपूर्ति पर असर पड़ा है। इससे राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं।

आकंड़ों के मुताबिक, प्याज की कीमतों में पिछले साल की तुलना में करीब तीन गुना वृद्धि हुई है। नवंबर 2018 में खुदरा बाजार में प्याज का भाव 30-35 रुपए किलो था। दिल्ली ही नहीं बल्कि देशभर के अन्य क्षेत्रों में भी प्याज की कीमतें बहुत अधिक हैं। हालांकि दिल्ली में प्याज राजनीतिक रूप से संवेदनशील वस्तु रही है। उपभोक्ता मामले के मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आने वाले दिनों में प्याज के दाम में नरमी आ सकती है, क्योंकि महाराष्ट्र, राजस्थान और कर्नाटक में नई फसल की आवक शुरू हो गई है।

हालांकि, बेमौसम बारिश की वजह से इन्हें उपभोक्ता क्षेत्रों तक लाने में दिक्कत हो रही है।सहकारी संस्था नेफेड के बफर स्टॉक से आपूíत करने से दिल्ली में प्याज की उपलब्धता सुधर रही है। अधिकारी ने कहा कि मदर डेयरी दिल्ली – एनसीआर में 400 से अधिक सफल बिक्री केन्द्रों के माध्यम से बफर स्टॉक से 24.90 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से प्याज बेच रही है।

हालांकि, कुछ केंद्रों पर प्याज का स्टॉक खत्म हो गया है और ग्राहकों को निराश होकर लौटना पड़ रहा है। इस बीच, सरकार ने अफगानिस्तान, मि, तुर्की और ईरान से प्याज के निजी आयात की सुविधा देने का फैसला किया है। अधिकारी ने कहा कि निजी व्यापारियों ने सरकार को बताया कि आयातित प्याज के 80 कंटेनर भारतीय बंदरगाहों पर पहुंच चुके हैं और 100 कंटेनरों को समुद्री मार्ग से भारत भेजा जा सकता है।