कैटरिंग कारोबारी के बेटे की 15 लाख की फिरौती के लिए अपहरण के बाद हत्या

विदिशा: मध्य प्रदेश में गंजबासौदा से अपराध का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां चार नाबालिग और एक 19 साल के युवक ने दक्षिण की फिल्म डीजे देखकर 15 लाख की फिरौती वसूलने के लिए अपने ही मोहल्ले के 12 साल के बालक का अपहरण कर लिया। बालक ने भागने की कोशिश की तो उसकी हत्या कर दी। वहीं सूचना मिलने बाद पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

गंजबासौदा के जाने-माने केटरिंग कारोबारी नारायण सिंह कुशवाह के 12 वर्षीय पुत्र पवन का शव पुलिस ने गमाकर गांव के एक खेत की खंती से बरामद किया है। पवन सोमवार दोपहर घर से साइकिल लेकर खेलने के लिए निकला था। जब वह शाम तक घर वापस नहीं आया तो परिजनों ने उसको तलाशना शुरू कर दिया। किसी से पता चला कि वह मोहल्ले के ही अपने एक नाबालिग दोस्त के साथ घूमते देखा गया था। दोस्त से पवन के बारे में पूछा तो उसने कुछ नहीं बताया।

वहीं रात में परिजनों ने देहात थाने में पवन के अपहरण का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने छानबीन के बाद 19 वर्षीय अजय चिड़ार व चार नाबालिग आरोपियों को पकड़ा है। देहात थाना प्रभारी वीरेंद्र मार्सकोले ने जानकारी देते हुए बताया कि इन सभी ने कबूल किया कि पवन का अपहरण फिरौती के लिए किया था। उसे घूमने का बहाना बनाकर गमाकर के एक सुनसान खेत में ले गए। वहां जाकर पवन को पता चला कि उसका अपहरण किया गया है।

उसने भागने की कोशिश की तो उसके सिर पर पत्थर मार दिया। खून निकलने के कारण वह बेहोश होकर गिर पड़ा। यह देख आरोपी घबरा गए और उसे साइकिल से बांधकर खेत में पानी से भरी खंती में पटक दिया। पवन चार बहनों में अकेला भाई था। वह न्यू स्कालर्स पब्लिक स्कूल में कक्षा 6 का छात्र था। आरोपी ज्यादातर आपराधिक फिल्में देखते थे। साउथ की फिल्म डीजे उन्होंने कई बार देखी थी। इसके बाद दो बच्चों के अपहरण की साजिश रची। पुलिस ने बताया कि सफलता मिलती तो वे दूसरी वारदात करते। अपहरण करके आरोपी ज्यादा से ज्यादा रुपए जुटाना चाहते थे।