असम: प्रदूषण मुक्त भारत बनाने में CM सर्बानंद सोनोवाल का योगदान, 15 इलेक्ट्रिक बसों को दिखाई हरी झंडी

असम: भारत को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने राज्य में नई 15 इलेक्ट्रिक बसों की शुरूआत की है। सोमवार को उन्होंने इन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। मुख्यमंत्री ने इस दौरान कहा कि हमारा लक्ष्य असम के साथ -साथ पूरे भारत को प्रदूषण मुक्त करना है। इसलिए हमने गुवाहाटी में 14 इलेक्ट्रिक बसें चलाई। हम धीरे-धीरे पूरे राज्य में इलेक्ट्रिक बसों चलाएंगे। अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि इन बसों को ‘फास्टर अडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स’ (FAME-1) के तहत बनाया गया है। ये बसें पायलट प्रोजेक्ट के तहत गुवाहाटी से पानबाजार से कामाख्या मंदिर तक जाएंगी।

प्रदूषण मुक्त भारत बनाने में योगदान

अपने संबोधन में सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रदूषण मुक्त भारत बनाने की मुहिम के तहत यह कार्य किया है। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक बसों का शुरु करना प्रदूषण मु्क्त भारत बनाने में एक कदम है। भविष्य में और भी ऐसे कार्य किए जाएंगे।

बस से नहीं निकली हानिकारक गैस

इसके अलावा उन्होंने कहा कि इन बसों में सभी आधुनिक सुविधाएं, सुरक्षा सुविधाएँ होंगी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई भी हानिकारक गैस इसमें से नहीं निकलेगी। परिवहन मंत्री ने यह भी कहा कि उनका विभाग जल्द ही असम में एक इलेक्ट्रिक बस निर्माण इकाई स्थापित करने के लिए हंगरी स्थित कंपनी के समझौता करने वाला है।

जल्द शुरु होगी 100 और बसें

वहीं उन्होंने कहा कि राज्य में FAME-2 के तहत  राज्य में100 अतिरिक्त इलेक्ट्रिक बसों को शुरू करने की संभावना है, जिसके लिए आवश्यक प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इन बसों में से 50 बसें गुवाहाटी में चलेंगी, 25 को जोरहाट और सिलचर में सेवा में लगाया जाएगा

बता दें कि इन दिनों दिल्ली एनसीआर में स्मॉग के चलते प्रदूषण स्तर बढ़ता जा रहा है। इसके तहत लोगों को सांस लेने में भी काफी तकलीफ हो रही है।