खुशखबरी: CHO के 3450 पदों पर भर्ती, प्रदेश के युवाओं को अब अनारक्षित वर्ग के लिए 40 की उम्र तक मौका

भोपाल: राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) में अब सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी भर्ती में युवाओं के लिए खुशखबरी है। सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी के 3450 संविदा पदों पर भर्ती के लिए आयु सीमा 35 से बढ़ाकर अब 40 साल की जाएगी। सामान्य प्रशासन विभाग का नियम होने के बावजूद मप्र के युवाओं के लिए इस भर्ती में आयु सीमा 5 साल घटा दी गई थी, जिसे अब बदला जा रहा है। अब अनारक्षित वर्ग के लिए आयु सीमा 40 वर्ष रहेगी, जबकि आरक्षित के लिए 45 वर्ष। सरकार नए सिरे से विज्ञापन जारी कर इन पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू करेगी।

सरकार के इस फैसले से प्रदेश के करीब 25 हजार युवा आवेदकों को फायदा होगा। केंद्र सरकार के हेल्थ एंड वैलनेस कार्यक्रम के तहत देश के सभी राज्यों में संविदा पर सीएचओ की नियुक्ति की जानी है। एनएचएम के तहत राजस्थान, महाराष्ट्र, हरियाणा और बिहार जैसे राज्यों ने अपने प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता में रखा है। इन राज्यों ने स्थायी निवासी का पात्रता और ऑनलाइन आवेदन में राज्य के बोर्ड में रजिस्ट्रेशन को अनिवार्य रखा है। इससे मध्यप्रदेश के युवाओं को मौका नहीं मिलेगा। दूसरी तरफ मध्यप्रदेश एनएचएम ने दूसरे प्रदेश के मूल निवासी और रजिस्टर्ड अभ्यर्थी को अनारक्षित में डाल दिया है। इससे सामान्य वर्ग की सीटों पर दूसरे प्रदेश के युवाओं को भी मौका मिल जाएगा।

वहीं इससे पहले कमलनाथ कैबिनेट ने 4 जुलाई को प्रदेश के युवाओं को ज्यादा मौका देने के लिए आयु सीमा 35 से बढ़ाकर 40 वर्ष कर दी थी। तभी से सभी विभागों में नौकरियों के नए पदों को 21 से 40 वर्ष की आयु सीमा में भरा जाने लगा है। कैबिनेट में दूसरा अहम फैसला मप्र के रोजगार कार्यालय में जीवित पंजीयन अनिवार्य किया गया था। एनएचएम ने पदों पर भर्ती के लिए इस नियम का भी पालन नहीं किया है। एनएचएम ने प्रदेश रोजगार कार्यालय में रजिस्ट्रेशन को अनिवार्य नहीं माना है।

मिशन डायरेक्टर, एनएचएम छवि भारद्वाज ने बताया कि एनएचएम में सीएचओ की संविदा पदों पर भर्ती की आयु सीमा का परीक्षण कराया गया है। ये आयु सीमा 40 वर्ष की जाएगी। इसके आदेश जारी करने के निर्देश दिए गए है।’ वहीं स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि मिशन डॉयरेक्टर को इसकी समीक्षा करने और फैसले के निर्देश दे दिए है।