बेटी के डेथ सर्टिफिकेट के लिए पिता खा रहे दर-दर ठोकरें, जिंदगी-मौत के बीच जूझ रही पत्नी

सतना: उंचेहरा तहसील में एक बेबस पिता को बेटी के डेथ सर्टिफिकेट के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है। हद तो उस वक्त हो गई जब पंचायत स्तर पर उन्हें किसी भी तरह की मदद नहीं मिल पाई। ग्राम पंचायत ईचौल में पीड़ित पिता कई बार मृत्यु प्रमाण पत्र लेने चक्कर लगा चुके हैं लेकिन कोई उनकी सुनने वाला नहीं है।

एक महीने से पंचायत से मृत्यु प्रमाणपत्र न मिलने से पीड़ित परिवार को बेटी की मौत का मुआवजा तक नहीं मिल पा रहा है। दरअसल मैहर से उचेहरा आ रही बस अनियंत्रित हो अहिरान के पास पलटने गई थी। इसमें 15 वर्षीय सानिया दाहिया की बस के नीच आ जाने से मौत हो गई थी और उसकी मां अनीता दाहिया अभी भी जिंदगी मौत से जूझ रही है, जिसका नागपुर में इलाज चल रहा है। वहीं इस पूरे घटनाक्रम में कलेक्टर और एसपी ने मौके पर पीड़ित को हर संभव आर्थिक मदद का भरोसा दिलाया था। मगर उनके निर्देशों के बावजूद आज दिन तक पीड़ित को फौरी राहत के तौर पर 10 हजार रुपए की राशि तक नसीब नहीं हो पाई है।