नाबालिग बच्चियों से दुष्कर्म मामले में MP नंबर 1, NCRB ने जारी किए आंकड़े

भोपाल: मध्यप्रदेश से रेप के मामले में नंबर पर बने रहने का कलंक मिटते नहीं दिखाई दे रहा है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ऑफ ब्यूरो (NCRB) ने साल 2017 के अपराध के आंकड़ों को जारी कर दिया है। जिसमें मध्यप्रदेश रेप के मामले में नंबर वन पर बरकरार है। देश भर में महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध में UP पहले स्थान पर है। आपको बता दें कि 2017 में मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह की सरकार थी। इस बीच 2015 से 2017 की तुलना में प्रदेश में अपराध बढ़ें हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ऑफ ब्यूरो गृह मंत्रायल के अधीन कार्य करती है।

NCRB के ये आंकड़े 2 साल बाद जारी किए गए हैं। देश भर में रेप के मामले में मध्य प्रदेश पहले पायदान पर रहा है। बीते एक साल में 5599 महिलाओं के साथ ज्यादती हुई। इसमें 3082 नाबालिग बच्चियां भी शामिल हैं। प्रदेश व देश की सरकारें भले ही महिला सुरक्षा को लेकर तमाम दावे करती हों, लेकिन इनके दावों की सच्चाई अब सामने है। आंकड़ों में सरकारी दावों की पोल खुलती दिखाई दे रही है। MP में 8.3% अपराध बढ़े हैं, वहीं पहले मध्यप्रदेश में 2016 में 26 हजार 604 मामले थे, जो 2017 में बढ़कर 29 हजार 788 तक पहुंच गए हैं।

अपहरण के मामले में UP नंबर वन…
वहीं हम बात करें पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश की तो अपहरण के मामले में UP नंबर वन पर है। UP में 2016 में अपराध और फिरौती से संबंधित कुल 88 हजार 8 मामले दर्ज हुए थे। जोकि 2017 में में बढ़कर 95893 पहुंच गए हैं।

कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा ने साधा पूर्व की शिवराज सरकार पर निशाना…
रेप के मामले में देश भर में नंबर वन आने के बाद मध्यप्रदेश में ही कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा ने इसका जिम्मेदार पूर्व की शिवराज सरकार को ठहराया है। शर्मा ने कहा है कि बीजेपी सरकार सिर्फ घोषणाएं करती रही उसी का परिणाम है कि रेप के मामले में मध्यप्रदेश नंबर वन है। हमारी सरकार महिला अपराध रोकने के लिए प्रयासरत है। अब नई तकनीक से महिला अपराध को रोका जाएगा। आने वाले समय में इसका परिणाम भी सबके सामने होगा।