शिवराज ने किया भार्गव का बचाव, कहा- ‘गोपाल ने जन-भावना देखकर बयान दिया’

भोपाल: पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि टउन्हें किसी भी पद का कोई लालच नहीं है वे नैतिक व्यक्ति हैं। यदी मुख्यमंत्री बनना होता तो पहले ही जोड़ तोड़ करके बन गया होता’। हालांकि शिवराज ने भार्गव के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि ‘गोपाल ने कोई भी गलती नहीं की है, जनता के बीच जन भावना देखकर बोला जाता है, उन्होंने वही किया’।

शिवराज ने गोपाल भार्गव का बचाव करते हुए कहा कि ‘युवा सम्मेलन था, बच्चे मामा-मामा कर रहे थे, उन्होंने पूछा की मुख्यमंत्री बनना चाहते हो, तो बच्चों ने कहा कि हां, तो फिर भार्गव ने कहा कि बन जाएंगे। इसमें नेता की कोई गलती नहीं। शिवराज ने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, लोकसभा चुनाव के दौरान भी कई लोग करते रहे हैं। शिवराज ने कहा कि वे सभी पदों से ऊपर है। किसी पद की कोई भी आकांक्षा नहीं है। मेरा सबसे बड़ा काम प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता की सेवा करना है। इसके लिए वे हर समय जनता के बीच मौजूद रहेंगे। चाहे पद रहे या नहीं। वहीं सूत्रों का कहना है कि गोपाल भार्गव के बयान पर उन्हें एक बार फिर हाईकमान से फटकार पड़ी है। यही कारण है कि शिवराज ने उनका बचाव किया।