अब BJP सांसद ने ही उठाए पुष्पेंद्र यादव ‘एनकाउंटर’ पर सवाल?, CM योगी को लिखा पत्र

गुना: मध्यप्रदेश की गुना लोकसभा सीट से सासंद केपी सिंह UP के CM योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। के पी यादव ने मांग की है कि झांसी जिले के मोठ पुलिस थाना क्षेत्र में पुष्पेन्द्र यादव की फर्जी मुठभेड़ में मृत्यु की निष्पक्ष और उच्च स्तरीय जांच कराई जाए। आपको बता दें कि इससे पहले यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी मामले की निष्पक्षता से जांच की मांग कर चुके हैं।

PunjabKesari, Pushpendra Yadav encounter, Jhansi encounter, UP police, CM Yogi Adityanath, BJP MP KP Yadav, Akhilesh Yadav, demand for investigation, Guna News, Madhya Pradesh News, Punjab Kesari

BJP सांसद केपी यादव ने लिखा है कि ‘मेरे संसदीय क्षेत्र गुना-शिवपुरी के सीमावर्ती जिला झांसी में बीते 05 अक्टूबर को मोठ थाना के दरोगा धर्मेद्र चौहान द्वारा निर्दोष 23 वर्षीय पुष्पेन्द्र यादव की गोली मारकर हत्या कर दी जाती है, और इसे पुलिस मुठभेड़ का नाम दिया जाता है। जबकि मृतक पर किसी भी प्रकार का कोई आपराधिक मामला पंजीबद्ध नहीं है, और न ही उनकी पृष्ठभूमि आपराधिक रही है। उनके पारिवारिक माहौल भी देशभक्ति की आवना से ओतप्रोत रहा है, उनके पिताजी रिटायर्ड सैन्यकर्मी एवं बड़ा भाई भी वर्तमान में नई दिल्ली में CISF है’। केपी यादव ने आगे लिखा है कि ‘पुष्पेन्द्र यादव का विवाह अभी तीन महीने पहले ही हुआ था, परिजनों द्वारा जब आरोपी दरोगा पर FIR दर्ज करने की मांग की गई, तो उस मांग को दरकिनार करते हुए पुलिस प्रशासन द्वारा उनका अंतिम संस्कार पारिवार जनों की गैर मौजूदगी में कर दिया गया। उक्त दु:ख में संत्रिप्त परिवार की इस हालत में मृतक की दादी ने शोक में अपने प्राण त्याग दिये। अत: आपसे मेरा विनम्र अनुरोध है कि पूरे मामले को संज्ञान में लेकर पुष्पेन्द्र  यादव के वृद्ध माता-पिता, विधवा पत्नि की मानसिक प्रताड़ना को देखते हुए इस फर्जी एनकाउंटर की निष्पक्ष जांच एवं दोषी अधिकारियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाने का कष्ट करें, जिससे पीड़ित परिवार को न्याय मिल सके’।

क्या है पूरा मामला?
दरअसल, पुष्पेंद्र पर पुलिस ने आरोप लगाया है कि बीते शनिवार की रात वह मोठ थाने के इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह चौहान पर हमला करने के बाद उनकी कार लूटकर भाग रहा था। जिसके चलते अगली सुबह पुलिस ने पुष्पेंद्र यादव को गुरसराय थाना क्षेत्र में एक मुठभेड़ में कथित तौर पर मार दिया था। पुलिस के मुताबिक उसके 2 साथी भाग निकले थे। पुलिस का ये भी आरोप है कि पुष्पेंद्र की कार से दो तमंचे कारतूस और मोबाइल भी बरामद किए गए हैं। वहीं परिजनों का आरोप है कि पुष्पेंद्र को जबरन पकड़कर मारा गया है, वे इस मामले में न्याय चाहते हैं। उनका आरोप है कि पुष्पेंद्र के खिलाफ कोई शिकायत नहीं थी। कभी किसी ने उसके बारे में कुछ नहीं कहा। लेकिन पुलिस ने उसे अपराधी बताकर मार डाला। उसके खिलाफ फर्जी केस दर्ज किए।

अखिलेश यादव ने UP पुलिस पर उठाए सवाल?
पूर्व CM अखिलेश यादव ने फर्जी एनकाउंटर की जांच सिटिंग जज से कराए जाने की मांग उठाई। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार पर भी करारा हमला बोलते हुए कहा ‘यूपी पुलिस हत्या का पर्याय बन गई है। उन्होंने हाल ही में एनकाउंटर किए गए कई मामलों पर उंगली उठाई। उन्होंने सहारनपुर और आजमगढ़ समेत कई जगह फर्जी मुठभेड़ किए जाने की बात कही।