दिल्ली-NCR की हवा बिगड़ी:आज से डीजल जेनरेटरों पर रोक, ईंट के भट्टे और स्टोन क्रेशर भी होंगे बंद

नई दिल्लीः दिल्ली की वायु गुणवत्ता सर्दियों से पहले बिगड़ने लगी है। दिल्ली समेत एनसीआर में प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है। पंजाब और हरियाणा में पराली जलाए जाने के कारण जहरीला धुआं धीरे-धीर दिल्ली-एनसीआर को अपनी चपेट में लेता जा रहा है। मंगलवार सुबह दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स 211 और 214 दर्द किया गया, हालांकि नोएडा में यह 310 पहुंच गया। अगले 24 घंटे में प्रदूषण का स्तर और बढ़ने की आशंका है।

आज से जीआरएपी लागू होगी
दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण पर अंकुश लगाने के लिए मंगलवार को क्रमिक कार्रवाई कार्ययोजना (जीआरएपी) प्रभाव में आ जाएगी और स्थिति के हिसाब से निजी वाहनों को निरुत्साहित करने, डीजल जेनरेटरों के इस्तेमाल पर रोक, ईंट के भट्टे और स्टोन क्रशर बंद करने जैसे कठोर कदम तत्परता से उठाए जाएंगे।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जीआरएपी तैयार की थी और उसे 2017 में पहली बार लागू किया गया था। उसमें वायु प्रदूषण कम करने के लिए स्थिति के हिसाब से कई उपायों का उल्लेख है। इस साल जीआरएपी के तहत चार नवंबर से दिल्ली सरकार की वाहनों की सम-विषम योजना शुरू होगी तथा एनसीआर के गुड़गांव, गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, बहादुरगढ़ शहरों में डीजल जेनरेटों पर पाबंदी लगेगी।