पठानकोट में आतंकी हमले का खतरा; सिविल अस्पताल में ‘एमरजैंसी’, ‘ट्रोमा वार्ड’ करवाए खाली

पठानकोट: पंजाब में आतंकी हमले के खतरे के कारण सुरक्षा बेहद कड़ी कर दी गई है। पठानकोट में आतंकी हमले का इनपुट मिलने के बाद हाई अलर्ट जारी किया गया है। पूरे क्षेत्र में नाकाबंदी कर वाहनों की चैकिंग की जा रही है और अस्पतालों में बैड खाली कराकर उन्हें रिजर्व किया गया है।
पुलिस व सुरक्षा बलों के जवान पिछले 2 दिनों से सरहदी क्षेत्रों में सर्च ऑप्रेशन चला रहे हैं। पुलिस प्रशासन की तरफ  से सभी उच्चाधिकारियों को एक पत्र जारी किए जाने के बाद 11 से 13 अक्तूबर तक पठानकोट और गुरदासपुर दोनों जिलों में गहन सर्च ऑप्रेशन जारी रहने वाला है। वहीं किसी भी स्थिति से निपटने के लिए सुरक्षा बलों के साथ प्रशासन और पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है।जिले में प्रशासनिक आदेशों के बाद जिला सिविल अस्पताल में एमरजैंसी व ट्रोमा वार्डों को खाली करवा दिया गया।अस्पताल प्रबंधन ने इन वार्डों पर उपचाराधीन रोगियों को जनरल वार्ड में शिफ्ट करवा दिया। इससे अस्पताल में उपचाराधीन रोगियों व उनके अटैंडैंटों में खलबली मच गई। सनद रहे कि इस जिले की सीमाएं आतंकवाद ग्रस्त जम्मू-कश्मीर से लगती हैं, वहीं जिले में से 25 किलोमीटर लंबी अंतर्राष्ट्रीय सरहद गुजरती है। सरहद से सटा बमियाल क्षेत्र पहले ही घुसपैठ के लिए पाक प्रशिक्षित आतंकियों के निशाने पर रहता है। सिविल अस्पताल के एमरजैंसी व ट्रोमा वार्ड खाली करवाए जाने के वाक्या की जानकारी मिलने पर स्थानीय लोगों में संशय बढ़ गया है।