RLD के राष्ट्रीय महासचिव ने कहा महिलाओं के साथ पुलिस ने की ज्यादती

नोएडा: नोएडा में राष्ट्रीय लोकदल के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज श्रीकांत त्यागी मामले में गौतमबुद्धनगर के पुलिस कमिश्नर से मुलाकात की। रालोद नेताओं ने इस प्रकरण में पुलिस की ओर गई कार्यवाही को सरासर गलत बताते हुए त्यागी परिवार के उत्पीड़न का मुद्दा उठाया। ये मुलाकात नोएडा के सेक्टर-108 में पुलिस आयुक्त कार्यालय में हुई।रालोद के राष्ट्रीय महासचिव त्रिलोक त्यागी ने कहा कि कमिश्नर के सामने इस मामले में पुलिस द्वारा अपनाये गये रवैये का मुद्दा उठाया गया। उन्होंने कहा कि श्रीकांत के परिवार की महिलाओं के साथ पुलिस ने ज्यादती की है। श्रीकांत की पत्नी अनु त्यागी को गलत तरीके से हिरासत में लेकर कई घंटे थाने में बैठाकर पूछताछ की गई और उसकी मामी को 3-4 दिन तक पुलिस ने इधर-उधर घुमाया।कमिश्नर के सामने उन्होंने अनु त्यागी के साथ सोसायटी की महिलाओं द्वारा की गई बदसलूकी का भी मुद्दा उठाया। उन्होंने आरोप लगाया कि इस प्रकरण के बाद श्रीकांत त्यागी के घर की सोसायटी वालों ने बिजली काट दी। उनके बच्चे दो दिन तक अंधेरे में रहे। इसके अलावा श्रीकांत त्यागी के मकान के बाहर हुए अतिक्रमण को ही हटाया गया जबकि ऐसे 200 लोगों ने सोसायटी में अतिक्रमण कर रखा है।त्यागी ने कहा कि पुलिस का रवैया अंग्रेजों से भी ज्यादा क्रूर था। उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस का रवैया बेहद गैर ज़िम्मेदार रहा। एक गालीबाज प्रवृत्ति के श्रीकांत त्यागी को पकड़कर 3 लाख रुपए का ईनाम पुलिस कर्मियों को बांट दिया गया। जैसे पुलिस ने कोई आतंकवादी पकड़ लिया हो।पुलिस इस मामले में आरोपी श्रीकांत के साथ जैसा चाहे व्यवहार करे लेकिन उन्हें परिवार की महिलाओं और बच्चों के साथ ज्यादती नहीं करनी चाहिए थी। इस प्रकरण में पुलिस का घिनौना चेहरा सामने आया है। उन्होंने पुलिस कमिश्नर से मांग की है कि इस मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के साथ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए।इस दौरान राष्ट्रीय लोकदल के महानगर अध्यक्ष नोएडा विजेंद्र यादव, वरिष्ठ अधिवक्ता एवं रालोद नेता इंद्रवीर भाटी, मनोज चौधरी, ओडी त्यागी, अमित सरना, अभिषेक त्यागी, दीपक नागर, साहिल आज़ाद, आदि नेता व रालोद कार्यकर्ता मौजूद रहे।