एक ही युवक से थे दोनों के प्रेम सम्बन्ध, बदनामी के डर से प्रेमी के कहने पर कुएं में कूदी थी, आरोपी गिरफ्तार

छिंदवाड़ा: लावाघोघरी के सोनपठार में सामूहिक आत्महत्या करने वाली देवरानी जेठानी के प्रेम संबंध एक ही युवक से थे, जिसके कारण उन्होंने मौत का रास्ता चुना। लेकिन आत्महत्या करने के पूर्व दोनों इस युवक के साथ घर से भाग गई थी और दो दिनों तक जंगल में छिपी रही, इसके बाद प्रेमी ने सामूहिक आत्महत्या की कहानी रची और खुद पानी से निकलकर घर भाग गया था।पुलिस की पड़ताल के बाद पूरी कहानी सामने आ गई है, जिसके बाद इस प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया गया है। बता दें कि लावाघोघरी के सोनपठार निवासी 30 वर्षीय श्रीमति सुशीला पति हरेश कोराची और उसकी देवरानी 27 वर्षीय श्यामबती पति नरेश कोराची का शव गत मंगलवार के दिन परासिया – बैतूल मार्ग पर ग्राम सोनपठार निवासी हरिराम सरेयाम के खेत में बने कुंए में उतराते हुए मिला था।सूचना के बाद पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर बुधवार के दिन जिला अस्पताल में शवों का पोस्टमार्टम करा लिया था ।पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि मृतिका का संबंध गांव में रहने वाले स्वामी पिता मुन्नालाल परतेती के साथ थे, इसके बाद जेठानी के , संबंध भी बन गए।ये बात देवर को पता लग गई थी और उसके माध्यम से दोनों के पतियों को। बात बिगड़ते देख दोनों महिलाएं रविवार के दिन स्वामी के साथ भागकर मैनीखापा के जंगल में गई और दो दिनों बाद कुंए में तीनों कूद गए।इस दौरान स्वामी पानी से तैरतकर निकल गया, जबकि दोनों की मौत हो गई। पुलिस ने इस खुलासे के बाद स्वामी पिता मुन्नालाल परतेती के खिलाफ धारा 306 भादवि के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले को जांच में लिया है।